Best Gulzar Shayari And Quotes Collection

by:

FriendshipLoveMotivationalShayari

Today we’re compiling the best collection of Shayari, Poems, and Quotes by a legendary artist “Gulzar”.

“Gulzar” is a well-known name in both Hindi and Urdu Literature. With a career of more than six decades, Gulzar Sahab has gifted us with some of the most beautiful songs, poems, and films.

Born as Sampooran Singh Kalra, on August 18, 1934, Gulzar is one of the most popular film directors, lyricists, and poets in India. For his remarkable work in the industry, he has won several prestigious awards including Padma Bhushan, Dadasaheb Phalke Award, and Grammy Award.

Talking about his poetry work, Gulzar never fails to amaze us with his deep meaning Shayari. Gulzar’s Shayari sometimes forces us to be lost in thoughts.

We’ve compiled a list of most heart-touching Shayari by Gulzar that you will love to read and share. Enjoy and feel these beautiful lines…

Gulzar Shayari On Love

Love is one of the most favorite picks of Gulzar sahab to write something on. Gulzar’s Shayari on love reflects different shades of emotions beautifully. Here are some handpicked Shayari on love by Gulzar…

Best Lines Of Gulzar Sahab On Love

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की

Kitani Lambi Khaamoshi Se Guzara Hoon
Un Se Kitana Kuchh Kehne Ki Koshish Ki
Kitani Lambi Khaamoshi Se Guzara Hoon... ---Gulzar
महफ़िल में गले मिलकर वह धीरे से कह गए,
यह दुनिया की रस्म है, इसे मुहोब्बत मत समझ लेना!!

Mehfil mein gale milkar vah dheere se keh gaye,
Ye duniya ki rasm hai, ise mohobbat mat samajh lena!!
आदतन तुमने कर दीए वादे,
आदतन हमने एतबार किया…
तेरी राहों में बारहाँ रुक कर,
हमने अपना ही इंतज़ार किया…
अब ना मांगेंगे ज़िन्दगी या रब,
यह गुनाह हमने जो एक बार किया…!!

Aadatan tumne kar diye vaade,
Aadatan humne aitbar kiya…
Teri raahon mein baarhan ruk kar,
Humne apna hi intezaar kiya…
Ab naa mangenge zindagi yaa rab,
Yeh gunaah humne jo ek baar kiya…!!
बहुत मुश्किल से करता हूँ तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है लेकिन गुज़ारा हो ही जाता है!

Bahut mushkil se karta hoon teri yaadon ka kaarobaar,
munaafa kam hai lekin guzaara ho hi jaata hai!
Bahut mushkil se karta hoon teri yaadon ka kaarobaar - Gulzar
इतने लोगों में कह दो अपनी आँखों से,
इतना ऊँचा न ऐसे बोला करे, लोग मेरा नाम जान जाते हैं!

Itane logon mein keh do apni aankhon se,
itana ooncha na aise bola kare, log mera naam jaan jaate hain!
वो चीज जिसे दिल कहते हैं,
हम भूल गए हैं रख कर कहीं!!

Wo cheej jise dil kehate hain,
hum bhool gaye hain rakh kar kahin!!
तेरे बिना ज़िन्दगी से कोई शिकवा तो नहीं,
तेरे बिना ज़िन्दगी भी लेकिन ज़िन्दगी तो नहीं!

Tere bina zindagi se koi shikva to nahin,
Tere bina zindagi bhi lekin zindagi to nahin!
कोई पूछ रहा है मुझसे अब मेरी ज़िन्दगी की कीमत,
मुझे याद आ रहा है हल्का सा मुस्कुराना तुम्हारा!

Koi pooch raha hai mujhse ab meri zindagi ki keemat,
Mujhe yaad aa raha hai halka sa muskurana tumhara!
Gulzar Sahab Shayari on Love...
तुम्हारी खुशियों के ठिकाने बहुत होंगे,
मगर हमारी बेचेनियों की वजह बस तुम हो!

Tumhaari khushiyon ke thikaane bahut honge,
Magar hamaari bechainiyon ki wajah bas tum ho!
मोहब्बत ज़िन्दगी बदल देती है,
मिल जाए तब भी और ना मिले तब भी…!!!

Mohabbat zindagi badal deti hai,
Mil jaaye tab bhi aur naa mile tab bhi…!!!
सुनो…ज़रा रास्ता तो बताना…
मोहब्बत के सफ़र से वापसी है मेरी…

Suno…Zara rasta to batana…
Mohabbat ke safar se wapasi hai meri…
इश्क़ में जलते हुए साँस तेजबी लगे
राज़ खुलता ही नहीं कोई तो चाबी लगे

Ishq mein jalte hue saans tejabi lage
Raaz khulta hi nahin koi to chabi lage
ये इश्क़ मोहब्बत की रिवायत भी अजीब है
पाया नहीं है जिसको उसे खोना भी नहीं चाहते

Ye ishq mohabbat ki riwayat bhi ajeeb hai
Paya nahin hai jisko use khona bhi nahin chahte
Gulzar love shayari...
मोहब्बत दो लोगो की
बात सौ लोगो की

Mohabbat do logo ki
Baat sau logo ki
उस उम्र से हमने तुमको चाहा है,
जिस उम्र में हम जिस्म से वाकिफ ना थे…!!!

Us umra se humne tumko chaha hai,
Jis umra mein hum jism se waqif naa the…!!!
Us umra se humne tumko chaha hai... ---Gulzar

Also see 500+ Love Shayari To Express Your True Emotions.

Romantic Shayari By Gulzar

हमने अक्सर तुम्हारी राहों में रुक कर,
अपना ही इंतज़ार किया!!

Humne aksar tumhaari raahon mein ruk kar,
apna hi intezaar kiya!!
Gulzar Shayari Romantic
मेरे दिल में एक धड़कन तेरी है
उस धड़कन की कसम तू ज़िन्दगी मेरी है
मेरी तो हर सांस में एक सांस तेरी है
जो कभी सांस रुक जाये तो मौत मेरी है

Mere dil mein ek dhadkan teri hai
Us dhadkan ki kasam tu zindagi meri hai
Meri to har saans mein ek saans teri hai
Jo kabhi saans ruk jaye to maut meri hai
यूँ तो रौनकें गुलज़ार थी महफ़िल, उस रोज़ हसीं चहरों से…
जाने कैसे उस पर्दानशी की मासूमियत पर हमारी धड़कने आ गई!!

Yun to raunakein gulzaar thi mehfil, us roz haseen cheharon se…
Jaane kaise us pardanashin ki maasoomiyat par hamaari dhadakane aa gayi!!
मेरे दर्द तो भी आह का हक़ है
जैसे तेरे हुस्न तो निगाह का हक़ है
मुझे भी एक दिल दिया है भगवन ने
मुझ नादान को भी एक गुनाह का हक़ है

Mere dard to bhi aah ka haq hai
Jaise tere husn to nigaah ka haq hai
Mujhe bhi ek dil diya hai bhagwan ne
Mujh naadan ko bhi ek gunaah ka haq hai
Mere dard to bhi aah ka haq hai... -Gulzar
नज़र झुका के उठाई थी जैसे पहली बार,
फिर एक बार तो देखो मुझे उसी नज़र से!

Nazar jhuka ke uthai thi jaise pehali baar,
phir ek baar to dekho mujhe usi nazar se!
मौसम का गुरुर तो देखो,
तुमसे मिल के आया हो जैसे!

Mausam ka gurur to dekho,
Tumse mil ke aaya ho jaise!
कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ,
किसी की आँख में हम को भी इंतज़ार दिखे!!

kabhi to chaunk ke dekhe koi hamaari taraf,
kisi ki aankh mein hum ko bhi intezaar dikhe!!
Romantic Shayari By Gulzar
जागना भी कबुल है तेरी यादों में रातभर,
तेरे अहसासों में जो सुकून है वो नींद में कहाँ!

Jaagna bhi kabul hai teri yaadon mein raatbhar,
Tere ehsaason mein jo sukoon hai wo neend mein kahaan!
वो मोहब्बत भी तुम्हारी थी
वो नफ़रत भी तुम्हारी थी
हम अपनी वफ़ा का इंसाफ किससे मांगते
वो शहर भी तुम्हारा था वो अदालत भी तुम्हारी थी…

Wo mohabbat bhi tumhari thi
Wo nafrat bhi tumhari thi
Hum apni wafa ka insaaf kis se mangte
Wo shehar bhi tumhara tha wo adalat bhi tumhari thi…
तुमसे मिली जो ज़िन्दगी हमने कभी बोइ नहीं
तेरे सिवा कोई ना था…तेरे सिवा कोई नहीं…

Tumse mili jo zindagi humne kabhi boi nahi
Tere siva koi naa tha…tere siva koi nahi…
Tumse mili jo zindagi humne kabhi boi nahi...

Gulzar Shayari On Relationship

सफल रिश्तों के बस यही उसूल है,
बातें भूलिए जो फिजूल है!!

Safal rishton ke bas yahi usool hai,
Baatein bhooliye jo fizool hai!!
Gulzar Shayari On Relationship
कुछ रिश्तों में मुनाफा नहीं होता,
लेकिन ज़िन्दगी को अमीर बना देते हैं!

Kuch rishton mein munaafa nahin hota,
Lekin zindagi ko ameer bana dete hain!
हाथ छुटे तो भी रिश्ते नहीं छोड़ा करते,
वक़्त की शाख से रिश्ते नहीं तोड़ा करते!

Haath chhute to bhi rishte nahin chhoda karte,
Waqt ki shaakh se rishte nahin toda karte!
रिश्तों की अहमियत समझा करो जनाब
इन्हे जताया नहीं निभाया जाता है

Rishton ki ahmiyat samjha karo janab
Inhe jataya nahin nibhaya jaata hai
एक परवाह ही बताती है कि ख़याल कितना है
वरना कोई तराजू नहीं होता रिश्तों में

Ek parwah hi batati hai ki khayal kitna hai
Warna koi tarazu nahin hota rishton mein
इतने बुरे नहीं थे हम
जितने इलज़ाम लगाये लोगो ने,
कुछ किस्मत ख़राब थी
कुछ आग लगाई लोगो ने…

Itne bure nahin the hum
jitne ilzaam lagaye logo ne,
Kuch kismat kharab thi
kuch aag lagai logo ne…
Itne bure nahin the hum...
धागे बड़े कमजोर चुन लेते हैं हम,
और फिर पूरी उम्र गांठ बांधने में ही निकल जाती है !!

Dhaage bade kamzor chun lete hain hum,
Aur phir poori umar gaanth bandhane mein hi nikal jaati hai !!
कुछ रिश्ते बहुत रूहानी होते हैं…
अपनेपन का शोर नहीं मचाया करते…

Kuch rishte bahut roohani hote hain…
Apnepan ka shor nahin machaya karte…
Kuch rishte bahut roohani hote hain... ---Gulzar
पनाह मिल जाए रूह को जिसका हाथ थामकर,
उसी हथेली पर घर बना लूँ!

Panaah mil jaye rooh ko jiska hath thamkar,
Usi hatheli par ghar bana loon!
अपने उसूल कभी यूँ भी तोड़ने पड़े
खता किसी और की थी और हाथ हमें जोड़ने पड़े

Apne usool kabhi yun bhi todne pade
Khata kisi aur ki thi aur haath hume jodne pade
Gulzar Shayari Relationship

Gulzar Shayari With Shades Of Sadness

आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

Aap Ke Baad Har Ghadi Hum Ne
Aap Ke Saath Hi Guzaari Hai
Sad Gulzar Shayari
तुम्हारी ख़ुश्क सी आँखें भली नहीं लगतीं
वो सारी चीज़ें जो तुम को रुलाएँ, भेजी हैं

Tumhaari Khushk Si Aankhen Bhali Nahin Lagti
Wo Saari Cheezein Jo Tum Ko Rulayein, Bheji Hain
ऐ हवा उनको खबर कर दे मेरी मौत की,
और कहना कफ़न की ख्वाहिश में मेरी लाश उनके आँचल का इंतज़ार करती है!

Ae hawa unko khabar kar de meri maut ki,
Aur kehna kafan ki khwahish mein meri laash unke aanchal ka intezar karti hai!
कुछ अधूरे से लग रहे हो आज,
लगता है किसी की कमी सी है!

kuchh adhoore se lag rahe ho aaj,
lagta hai kisi ki kami si hai!
तेरे जाने से कुछ बदला तो नहीं,
रात भी आई थी और चाँद भी, मगर नींद नहीं…

Tere jaane se kuchh badala to nahin,
Raat bhi aayi thi aur chaand bhi , magar neend nahin…
Tere jaane se kuchh badala to nahin... -Gulzar
झूंठे तेरे वादों पर बरस बिताए,
ज़िन्दगी तो काटी बस अब यह रात कट जाए!

Jhoothe tere vaadon par baras bitaye,
Zindagi to kaati bas ab yeh raat kat jaye!
मेरी कोई खता तो साबित कर,
जो बुरा हूँ तो बुरा तो साबित कर!
तुम्हें चाहा है कितना तू क्या जाने,
चल मैं बेवफा ही सही…
तू अपनी वफ़ा तो साबित कर!!

Meri koi khata to saabit kar,
Jo bura hoon to bura to saabit kar,
Tumhe chaha hai kitna tu kya jaane,
Chal main bewafa hi sahi…
Tu apni wafa to saabit kar!!!
खुदा ने पुछा की क्या सजा दूं
उस बेवफा को,
हमने भी कह दिया बस उसे मोहब्बत हो जाये
किसी बेवफा से…!!!

Khuda ne poocha ke kya saza doon
us bewafa ko,
Humne bhi keh diya bas use mohabbat ho jaye
kisi bewafa se…!!!
दिल अगर है तो दर्द भी होगा,
इसका शायद कोई हल नहीं…

Dil agar hai to dard bhi hoga,
Iska shayad koi hal nahin…
हम तेरी मजबूरी समझते समझते…
तेरी असलियत समझ गए…!!!

Hum teri majboori samajhte samajhte…
Teri asliyat samajh gaye…!!!
लोग पूछते हैं हमसे कि तुम कुछ बदल गए हो,
बताओ टूटे हुए पत्ते अब रंग भी ना बदलें क्या???

Log poochte hain humse ki tum kuch badal gaye ho,
Batao toote huye patte ab rang bhi naa badalein kya???
मिल गया होगा कोई गजब का हमसफ़र,
वरना मेरा यार यूँ बदलने वाला नहीं था!

Mil gaya hoga koi gajab ka hamasafar,
Warna mera yaar yun badalne waala nahin tha!
Sad Gulzar shayari...
जब मिला शिकवा अपनों से तो ख़ामोशी ही भलीं,
अब हर बात पर जंग हो यह जरुरी तो नहीं!

Jab mila shikwa apnon se to khaamoshi hi bhali,
Ab har baat par jung ho yeh jaruri to nahin!

Some Lines Expressing The Loneliness

अपने साये से चौक जाते हैं हम,
उम्र गुजरी है इस कदर तनहा!

Apan saaye se chaunk jaate hain hum,
Umra gujari hai is kadar tanha!
Gulzar loneliness shayari...
मेरी ख़ामोशी में सन्नाटा भी है, शौर भी है…
तूने देखा ही नहीं आँखों में कुछ और भी है!

Meri khamoshi me sannata bhi hai, shor bhi hai…
Tune dekha hi nahin aankhon mein kuch aur bhi hai…!
यूँ तो हम अपने आप में गुम थे
सच तो ये है की वहां भी तुम थे

Yun to hum apne aap mein gum the
Sach to ye hai ki wahan bhi tum the
आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

Aaina Dekh Kar Tasalli Hui
Ham Ko Is Ghar Mein Jaanta Hai Koi
Gulzar shayari - Aaina Dekh Kar Tasalli Hui
काँच के पीछे चाँद भी था और काँच के ऊपर काई भी
तीनों थे हम, वो भी थे और मैं भी था तन्हाई भी…

Kaanch Ke Peechhe Chaand Bhee Tha Aur Kaanch Ke Oopar Kai Bhi
Teenon The Ham, Vo Bhi The Aur Main Bhee Tha Tanhaee Bhee…
उनकी यादों से ही खुद को इतना “गुलज़ार” रखता हूँ,
कि तनहाइयाँ दम तौड़ देती है मेरी चौखट पर आकर!

Unki yaadon se hi khud ko itna “Gulzar” rakhta hoon,
Ki tanhaiyan dum tod deti hain meri chokhat par aakar!
ज़िन्दगी यूँ हुई बसर तन्हा,
काफिला साथ और सफ़र तन्हा!

Zindagi yun hui basar tanha,
Kafila saath aur safar tanha!
Zindagi yun hui basar tanha...
झूठे तेरे वादों पे बरस बिताए,
ज़िन्दगी तो काटी…ये रात कट जाए…

Jhoothe tere waadon pe baras bitaye,
Zindagi to kaati…Ye raat kat jaaye…
जब भी दिल यह उदास होता है
जाने कौन आस-पास होता है,
कोई वादा नहीं किया लेकिन
क्यों तेरा इंतज़ार रहता है…

Jab bhi dil yeh udas hota hai
jaane kaun aas-paas hota hai,
Koi wada nahi kiya lekin
kyun tera intezaar rehta hai…
आज की रात यूँ थमी सी है,
आज फिर आपकी कमी सी है…

Aaj ki raat yun thami si hai,
Aaj fir aapki kami si hai…
Gulzar lines loneliness...

Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *