Best Gulzar Shayari And Quotes Collection

by:

FriendshipLoveMotivationalShayari

Shayari On Life By Gulzar

थोडा है थोड़े की ज़रूरत है,
ज़िन्दगी फिर भी यहाँ की खुबसूरत है!!

Thoda hai thode ki zaroorat hai,
Zindagi phir bhi yahaan ki khubsoorat hai!!
इतना क्यों सिखाए जा रही हो ज़िन्दगी,
हमें कोनसी यहाँ ज़िन्दगी गुजारनी है!

Itna kyon sikhaye jaa rahi ho zindagi,
Humein konsi yahan zindagi gujarni hai!
Itna kyon sikhaye jaa rahi ho zindagi...
लगता है ज़िन्दगी आज कुछ खफा है,
खैर छोडिये कौन सी पहली दफा है!

Lagta hai zindagi aaj kuch khafa hai,
Khair chhodiye kon si pehli dafa hai…!!
Lagta hai zindagi aaj kuch khafa hai...
ज़िन्दगी ये तेरी खरोंचे है मुझ पर,
या तू मुझे तराशने की कोशिश कर रही है!

Zindagi ye teri kharonchein hai mujh par,
Ya tu mujhe tarashne ki koshish kar rahi hai!
एक सपने के टूट कर चकनाचूर हो जाने के बाद,
दुसरे सपने देखने के हौंसले को ज़िन्दगी कहते हैं!

Ek sapne ke tooth kar chaknachoor ho jane ke baad,
Dusre sapne dekhne ke hausle ko zindagi kehte hain!
यूँ तो ऐ ज़िन्दगी तेरे सफ़र से शिकायतें बहुत थी,
मगर दर्द जब दर्ज करने पहुंचे तो कतारें बहुत थी!

Yun to ae zindagi tere safar se shikayatein bahut thi,
Magar dard jab darj karane pahunche to katarein bahut thi!
Gulzar zindagi shayari...
थम के रह जाती है ज़िन्दगी,
जब जम के बरसती है पुरानी यादें!

Tham ke reh jaati hai zindagi,
Jab jam ke barasati hai puraani yaadein!
कभी ज़िन्दगी एक पल में गुज़र जाती है,
कभी ज़िन्दगी का एक पल नहीं गुज़रता!

kabhi zindagi ek pal mein guzar jaati hai,
kabhi zindagi ka ek pal nahin guzarata!
मैं तो चाहता हूँ हमेशा मासूम बने रहना,
ये जो ज़िन्दगी है समझदार किए जाती है!

Main to chaahta hoon hamesha maasoom bane rehana,
Ye jo zindagi hai samajhdaar kiye jaati hai!
जख्म कहाँ-कहाँ से मिले हैं छोडो इन बातों को,
ज़िन्दगी तू तो बता, सफ़र और कितना बाकी है!

Jakhm kahaan-kahaan se mile hain chhodo in baaton ko,
Zindagi tu to bata, safar aur kitna baaki hai!
Jakhm kahaan-kahaan se mile hain chhodo in baaton ko... ---Gulzar
तुझे बेहतर बनाने की कोशिश में
तुझे ही वक़्त नहीं दे पा रहे हम,
माफ़ करना ऐ ज़िन्दगी…
तुझे ही जी नहीं पा रहे हम..!!

Tujhe behtar banane ki koshish mein
tujhe hi waqt nahin de pa rahe hum,
Maaf karna ae zindagi…
tujhe hi jee nahin pa rahe hum..!!
Tujhe behtar banane ki koshish mein...
मिलता तो बहुत कुछ है इस ज़िन्दगी में
बस हम गिनती उसी की करते हैं जो हासिल न हो सका

Milta to bahut kuch hai is zindagi mein
Bas hum ginti usi ki karte hain jo haasil na ho saka
ज़िन्दगी छोटी नहीं होती है
लोग जीना ही देर से शुरू करते हैं

Zindagi choti nahin hoti hai
log jeena hi der se shuru karte hain
आज पता चल मुझे की “मौत” कितनी हसीन होती है
कमबख्त हम तो यूँ ही ज़िन्दगी जिए जा रहे थे

Aaj pata chal mujhe ki “Maut” kitni haseen hoti hai
Kambakht hum to yun hi zindagi jiye jaa rahe the
मोमबत्ती सी जल रही है ज़िन्दगी…
रोशन है मगर पिघल रही है ज़िन्दगी…

Mombatti si jal rahi hai zindagi…
Roshan hai magar pighal rahi hai zindagi…
Gulzar shayari on life - Mombatti si jal rahi hai zindagi...
थोड़ा सा रफू करके देखिये ना…
फिर से नयी सी लगेगी,
ज़िन्दगी ही तो है…

Thoda sa rafu karke dekhiye naa…
Fir se nayi si lagegi,
Zindagi hi to hai…

Prev Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *