Best Gulzar Shayari And Quotes Collection

by:

FriendshipLoveMotivationalShayari

Deep Meaning Couplets By Gulzar

दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

Din Kuchh Aise Guzaarta Hai Koi
Jaise Ehsaan Utaarta Hai Koi
Deep Meaning Gulzar Shayari...
ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी कहाँ होगा
ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ देती है

Zameen Sa Doosra Koi Sakhi Kahaan Hoga
Zara Sa Beej Utha Le To Ped Deti Hai
उठाए फिरते थे एहसान जिस्म का जाँ पर
चले जहाँ से तो ये पैरहन उतार चले

Uthaye Phirte The Ehsaan Jism Ka Jaan Par
Chale Jahaan Se To Ye Pairhan Utaar Chale
कोई न कोई रहबर रस्ता काट गया
जब भी अपनी रह चलने की कोशिश की

Koi Na Koi Rahabar Rasta Kaat Gaya
Jab Bhi Apni Raah Chalne Ki Koshish Ki
आ रही है जो चाप क़दमों की
खिल रहे हैं कहीं कँवल शायद

Aa Rahi Hai Jo Chaap Qadamon Ki
Khil Rahe Hain Kahin Kanval Shaayad
अब शाम नहीं होती, दिन ढल रहा है…
शायद वक़्त सिमट रहा है!!

Ab shaam nahin hoti, din dhal raha hai…
shaayad waqt simat raha hai!!
नाराज़ हमेशा खुशियाँ ही होती है,
ग़मों के इतने नखरे नहीं है!

Naaraz humesha khushiyan hi hoti hain,
Gumon ke itne nakhre nahin hai!
Naaraz humesha khushiyan hi hoti hain...
आओ जुबान बाँट ले अपनी-अपनी हम,
न तुम सुनोंगे बात न हमको समझना है!

Aao zubaan baant le apnei-apni hum,
Naa tum sunonge baat naa humako samajhana hai!
दर्द की भी अपनी एक अदा है,
वो भी सहने वालों पर फ़िदा है!

Dard ki bhi apni ek adaa hai,
Wo bhi sehne waalon par fida hai!
मैं हर रात सारी ख्वाहिशों को खुद से पहले सुला देता हूँ,
हैरत यह है की हर सुबह यह मुझसे पहले जाग जाती है!

Main har raat saari khwaahishon ko khud se pehale sula deta hoon,
Hairat yeh hai ki har subah yeh mujhse pehale jaag jaati hai!
बे सबब मुस्कुरा रहा है चाँद,
कोई साजिश छुपा रहा है चाँद!

Be sabab muskura raha hai chaand,
koi saajish chhupa raha hai chaand!
ऐसा तो कभी हुआ नहीं,
गले भी लगे और छुआ भी नहीं!

Aisa to kabhi hua nahin,
Gale bhi lage aur chhua bhi nahin!
इंसान की ख्वाहिश की कोई इन्तहा नहीं
दो गज ज़मीन भी चाहिये दो गज कफ़न के बाद

Insaan ki khwahish ki koi inteha nahin
Do gaj zameen bhi chahiye do gaj kafan ke baad
Deep Meaning Couplets By Gulzar...
ज़रा सी क़ैद में तुम्हे घुटन होने लगी
तुम तो पंछी पालने के बड़े शौक़ीन थे

Zara si qaid mein tumhe ghutan hone lagi
Tum to panchi paalne ke bade shaukeen the
किसके लिए जन्नत बनाई है तूने ऐ खुदा
कौन है यहाँ जो गुनहगार नहीं…!!!

Kiske liye JANNAT banayi hai tune ae khuda
Kon hai yahan jo GUNAHGAR nahin…!!!

Prev Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *