Best Gulzar Shayari And Quotes Collection

by:

FriendshipLoveMotivationalQuotesShayari

Shayari On Friendship

146 बचपन के भी वो दिन क्या खूब थे,
ना दोस्ती का मतलब था न मतलब की दोस्ती थी!!

Bachapan ke bhi wo din kya khoob the,
Na dosti ka matlab tha na matlab ki dosti thi!!
147 सोचता हूँ दोस्तों पर मुकदमा कर दूँ,
इसी बहाने तारीखों पर मुलाक़ात तो होगी..!!!

Sochta hoon doston par mukadma kar dun,
Isi bahane tarikhon par mulaqat to hogi..!!!
Dosti shayari by gulzar
148 गए थे सोचकर के बात बचपन की होगी
मगर दोस्त मुझे अपनी तरक़्क़ी सुनाने लगे

Gaye the sochkar ke baat bachpan ki hogi
magar dost mujhe apni tarakki sunane lage
149 उम्र और ज़िन्दगी में बस फर्क इतना..
जो दोस्तों बिन बीती वो उम्र
और जो दोस्तों संग गुज़री वो ज़िन्दगी

Umra aur zindagi mein bas farq itna….
Jo doston bin beeti wo umra
aur jo doston sang guzri wo zindagi
150 अजीब सिलसिला था वो दोस्ती का साहब…
जो कुछ दूर चला और इश्क़ में बदल गया…

Ajeeb silsila tha wo DOSTI ka sahab…
Jo kuch door chala aur ISHQ mein badal gaya…
151 बेवजह है तभी तो दोस्ती है…
वजह होती तो साजिश होती…!!!

Bewajah hai tabhi to dosti hai…
Wajah hoti to saajish hoti…!!!
Gulzar Friendship Shayari
152 फर्क है दोस्ती और मोहब्बत में…
बरसो बाद मिलने पर मोहब्बत नज़रें चुरा लेती है,
और दोस्ती गले लगा लेती है…

Farq hai dosti aur mohabbat mein…
Barso bad milne par mohabbat nazarein chura leti hai,
aur dosti gale laga leti hai…
153 दुश्मनी में भी दोस्ती का सिला रहने दिया
उसके सारे खत जलाये बस पता रहने दिया

Dushmani mein bhi dosti ka sila rehne diya
Uske saare khat jalaye bas pata rehne diya
Gulzar Dosti Shayari -  Dushmani mein bhi dosti ka sila rehne diya
154 मैंने तो बस दोस्ती मांगी थी
वो इश्क़ देकर बर्बाद कर गया

Maine to bas dosti mangi thi
Wo ishq dekar barbad kar gaya
155 उफ़ क़यामत है उनका
इश्क़ भी,
मोहब्बत भी करना चाहते हैं
वो भी दोस्ती की आड़ में…

Uff qayamat hai unka
ishq bhi,
Mohabbat bhi karna chahte hain
wo bhi dosti ki aad mein…

Prev Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *