Best Gulzar Shayari And Quotes Collection

by:

FriendshipLoveMotivationalShayari

Some Best Gulzar Poetry

राख में सो गई, हिलाओ ज़रा
आग रौशन हो, गुदगुदाओ ज़रा

आफ़ताब एक उठा के लायें चलो
मैं भी चलता हूं, तुम भी आओ ज़रा

रौशनी का कोई वसीला बने
घुप अंधेरा है, मुस्कुराओ ज़रा

नाम अपना बताऊंगा, पहले
अपना मज़हब मुझे बताओ ज़रा

एक ओंकारा, ला इलाह इलल्लाह
सूफ़ियों संग गुनगुनाओ ज़रा

Raakh mein so gayi, hilao zara
Aag roshan ho, gudgudao zara

Aaftab ek utha ke laaye chalo
Main bhi chalta hoon, tum bhi aao zara

Roshni ka koi vaseela bane
Ghup andhera hai, muskurao zara

Naam apna bataunga, pehle
Apna mazhab mujhe batao zara

Ek onkara, la illah illalah
Sufiyon sang gungunao zara
मुझसे इक नज़्म का वादा है,
मिलेगी मुझको
डूबती नब्ज़ों में,
जब दर्द को नींद आने लगे
ज़र्द सा चेहरा लिए चाँद,
उफ़क़ पर पहुंचे
दिन अभी पानी में हो,
रात किनारे के क़रीब
न अँधेरा, न उजाला हो,
यह न रात, न दिन
ज़िस्म जब ख़त्म हो
और रूह को जब सांस आए
मुझसे इक नज़्म का वादा है मिलेगी मुझको

Mujhse ek nazm ka wada hai,
milegi mujhko
doobti nabzon mein,
jab dard ko neend aane lage
zard sa chehra liye chand,
ufaq par pahunche
din abhi pani mein ho,
raat kinare ke kareeb
na andhera, na ujala ho,
yeh na raat, na din
jism jab khatm ho
aur rooh ko jab saans aaye
mujhse ek nazm ka wada hai milegi mujhko
आदमी बुलबुला है पानी का
और पानी की बहती सतह पर टूटता भी है, डूबता भी है,
फिर उभरता है, फिर से बहता है,
न समंदर निगल सका इसको, न तवारीख़ तोड़ पाई है,
वक्त की मौज पर सदा बहता आदमी बुलबुला है पानी का।

Aadmi bulbula hai paani ka
Aur pani ki behti satah par totata bhi hai, dubta bhi hai,
Fir ubharta hai, fir se behta hai,
Na samandar nigal saka isko, Na tawareekh tod payi hai,
Waqt ki mauj par sada behta aadmi bulbula hai paani ka.
Gulzar Shayari And Poetry
खुली किताब के सफ़हे उलटते रहते हैं
हवा चले न चले, दिन पलटते रहते हैं
बस एक वहशते-मंज़िल है और कुछ भी नहीं
कि चंद सीढियां चढ़ते-उतरते रहते हैं
मुझे तो रोज़ कसौटी पे दर्द कसता है
कि जां से जिस्म के बखिये उधड़ते रहते हैं
कभी रुका नहीं कोई मुक़ाम सहरा में
कि टीले पांव तले से सरकते रहते हैं
ये रोटियां हैं, ये सिक्के हैं और दायरे हैं
ये एक-दूजे को दिन-भर पकड़ते रहते हैं
भरे हैं रात के रेज़े कुछ ऐसे आंखों में
उजाला हो तो हम आंखें झपकते रहते हैं

Khuli kitab ke safhe ulatate rehte hain
Hawa chale naa chale, dil palatate rehte hain
Bas ek wahashte-manzil hai aur kuch bhi nahin
Ki chand seedhiyan chadhte-utarte rehte hain
Mujhe to roz kasuati pe dard kasta hai
Ki jaan se jism ke bakhiye udhadte rehte hain
Kabhi ruka nahin koi mukaam sahra mein
Ki teele paanv tale se sarakte rehte hain
Ye rotiyan hain, ye sikke hain aur daayre hain
Ye ek-dooje ko din-bhar pakadte rehte hain
Bhare hain raat ke raize kuch aise aankhon mein
Ujala ho to hum aankhein jhapakte rehte hain
थोड़ी देर ज़रा-सा और वहीं रुकतीं तो…
सूरज झांक के देख रहा था खिड़की से
एक किरण झुमके पर आकर बैठी थी,
और रुख़सार को चूमने वाली थी कि
तुम मुंह मोड़कर चल दीं और बेचारी किरण
फ़र्श पर गिरके चूर हुईं
थोड़ी देर, ज़रा सा और वहीं रूकतीं तो…

Thodi der zara sa aur wahin rukti to…
Sooraj jhank ke dekh raha tha khidki se
Ek kiran jhumke par aakar baithi thi,
Aur rukhsar ko choomne wali thi ki
Tum munh modkar chal di aur bechari kiran
Farsh par girke choor huyi
Thodi der, zara sa aur wahin rukti to…
कोई अटका हुआ है पल शायद
वक़्त में पड़ गया है बल शायद

दिल अगर है तो दर्द भी होगा
उसका कोई नहीं है हल शायद

कश्ती काग़ज़ की बहते पानी में
कोई मिल जाये, पार चल शायद

सब्र के पत्ते सख़्त कड़वे हैं
सब्र का होगा मीठा फल शायद

राख को भी कुरेदकर देखो
अब भी जलता हो कोई पल शायद

Koi atka hua hai pal shayad
Waqt mein pad gaya hai bal shayad

Dil agar hai to dard bhi hoga
Uska koi nahin hai hal shayad

Kashti kaghaz ki behte pani mein
Koi mil jaye, paar chal shayad

Sabra ke patte sakht kadwe hain
Sabra ka hoga meetha fal shayad

Raakh to bhi kuredkar dekho
Ab bhi jalta ho koi pal shayad
दिन कुछ ऐसे गुज़ारता है कोई
जैसे एहसान उतारता है कोई

आईना देख के तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई

पक गया है शज़र पे फल शायद
फिर से पत्थर उछालता है कोई

फिर नज़र में लहू के छींटे हैं
तुम को शायद मुग़ालता है कोई

देर से गूँजतें हैं सन्नाटे
जैसे हम को पुकारता है कोई

Din kuch aise gujarta hai koi
Jaise ehsaan utarta hai koi

Aaina dekh ke tasalli hui
Hum ko is ghar mein janta hai koi

Pak gaya hai shajar pe phal shaayad
Fir se patthar uchalta hai koi

Fir nazar mein lahu ke cheente hain
Tum ko shayad mugalta hai koi

Der se goonjte hain sannate
Jaise hum ko pukarta hai koi
कैसी ये मोहर लगा दी तूने…
शीशे के पार से चिपका तेरा चेहरा
मैंने चूमा तो मेरे चेहरे पे छाप उतर आयी है उसकी,
जैसे कि मोहर लगा दी तूने…
तेरा चेहरा ही लिये घूमता हूँ, शहर में तबसे
लोग मेरा नहीं, एहवाल तेरा पूछते हैं, मुझ से !!

Kaisi ye mohar laga di tune…
Sheeshe ke paar se chipka tera chehra
Maine chooma to mere chehre pe chaap utar aayi hai uski,
Jaise ki mohar laga di tune…
Tera chehra hi liye ghoomta hoon, shahar mein tabse
Log mera nahi, ehwaal tera poochte hain, mujh se !!
शहतूत की शाख़ पे बैठा कोई
बुनता है रेशम के धागे
लम्हा-लम्हा खोल रहा है
पत्ता-पत्ता बीन रहा है
एक-एक सांस बजा कर सुनता है सौदाई
एक-एक सांस को खोल के अपने तन पर लिपटाता जाता है
अपनी ही साँसों का क़ैदी
रेशम का यह शायर इक दिन
अपने ही तागों में घुट कर मर जाएगा

Shehtoot ki shakh pe baitha koi
Bunta hai resham ke dhage
Lamha-lamha khol raha hai
Patta-patta been raha hai
Ek-ek saans baja kar sunta hai saudai
Ek-ek saans ko khol ke apne tan par liptata jata hai
Apni hi saanso ka qaidi
Resham ka yeh shayar ek din
Apne hi taagon mein ghut kar mar jayega
तुझको देखा है जो दरया ने इधर आते हुए
कुछ भंवर डूब गये पानी में चकराते हुए

हमने तो रात को दांतों से पकड़कर रक्खा
छीना-झपटी में उफ़क़ खुलता गया जाते हुए

मैं ना हूंगा तो ख़िज़ां कैसे कटेगी तेरी
शोख़ पत्ते ने कहा शाख़ से मुर्झाते हुए

हरसतें अपनी बिलखतीं न यतीमों की तरह
हमको आवाज़ ही दे लेते ज़रा, जाते हुए

सी लिए होंठ, वो पाकीज़ा निगाहें, सुनकर
मैली हो जाती है आवाज़ भी, दोहराते हुए

Tumko dekha hai jo dariya ne idhar aate huye
Kuch bhanwar doob gaye pani mein chakrate huye

Humne to raat ko daanto se pakadkar rakha
Cheena-jhapti mein ufak khulta gaya jaate huye

Main naa hoonga to khija kaise kategi teri
Shaukh patte ne kaha shaakh se murjhate huye

Hasratein apni bilakhti na yateemo ki tarah
Humko aawaz hi de lete zara, jaate huye

See liye honth, wo pakeeza nigahein, sunkar
Maili ho jati hai aawaz bhi, dohrate huye

Prev

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *