500+ Love Shayari To Express Your True Emotions.

by:

For HerFor HimLoveShayari

Love shayari has the power to express different colors of love beautifully. Love shayari speaks all about the happiness, joy, desire, passion, sadness, pain, and vulnerabilities of being in love.

If you too want to express your emotions and feelings but not getting the right words, you will love this post for sure.

Our team has selectively picked 500 best shayari on love that can fill your heart with true colors of love…

Beautiful Shayari On Love By Famous Poets (Shayar)

Love has always been a favorite theme of poets and writers. Here is a beautiful compilation of love shayari by some of these most popular poets.

Ada Jafri’s Shayari On Love

Ada Jafri (22 August 1924 – 12 March 2015) is regarded as “The First Lady of Urdu Poetry”. She was a Pakistani poet (shayar) born in British India. Her work includes some of the beautiful lines in the form of ghazals as well as nazm.

Here are some lines written by Ada Jafri on love…

1

न बहलावा न समझौता, जुदाई सी जुदाई है…
‘अदा’ सोचो तो…
खुशबू का सफर आसान नहीं होता…

Na behlava na samjhauta, judai si judai hai…
‘Ada’ socho toh…
Khushboo ka safar aasaan nahin hota…
Ada Jafri shayari on love

2

जो तड़प तुझे किसी आईने में न मिल सके
तो फिर आईने के जवाब में मुझे देखना

Jo tadap tujhe kisi aaine mein na mil sake
To fir aaine ke jawab mein mujhe dekhna
Love shayari by Ada Jafri

3

बदले तो नहीं हैं वह दिलो-जान के क़रीने,
आँखों की जलन, दिल की चुभन, अब भी वही है…

Badle to nahin hain woh dil-o-jaan ke qarine,
Ankhon ki jalan, dil ki chubhan, ab bhi wahi hai…

4

गुल पर क्या कुछ बीत गई है
अलबेला झोंका क्या जाने

Gul par kya beet gayi hai
Albela jhonka kya jaane
Ada Jafri shayari on love...

5

अगर सच इतना ज़ालिम है तो हम से झूट ही बोलो
हमें आता है पतझड़ के दिनों गुल-बार हो जाना

Agar sach itna zalim hai to hum se jhooth hi bolo
Humein aata hai patjhad ke dino gul-baar ho jaana

6

होठों पे कभी उन के मेरा नाम ही आए
आए तो सही बर-सर-ए-इल्ज़ाम ही आए

Hothon pe kabhi unke mera naam hi aaye
Aaye to sahi bar-sar-e-ilzaam hi aaye
Ada Jafri love shayari...

7

दिल दुखाते रहे, जी जलाते रहे
हौसले दर्द के आज़माते रहे

Dil dukhate rahe, Jee jalate rahe
Honsley dard ke aazmate rahe

Love Shayari By Ahmad Faraz

Syed Ahmad Shah, better known by his pen name Ahmad Faraz, (12 January 1931 – 25 August 2008), was a Pakistani Urdu poet born in British India. For his recognizable contribution to poetry and Urdu literature, he was honored with multiple prestigious awards.

Some of the most beautiful lines written on love by Faraz are:

8

माना कि तुम गुफ़्तगू के फन में माहिर हो ‘फ़राज़’
वफ़ा के लफ्ज़ पे अटको तो हमें याद कर लेना

Mana Ki Tum Guftgoo Ke Fan Mein Mahir Ho ‘Faraz’
Wafa Ke Lafz Pe Atako ToHumein Yaadn Kar Lena.
Ahmad Faraz shayari on love...

9

रंजिश ही सही दिल ही दुखाने के लिए आ
आ फिर से मुझे छोड़ के जाने के लिए आ

Ranjish hi sahi dil hi dukhane ke liye aa
Aa phir se mujhe chhod ke jaane ke liye aa

10

अपने ही होते हैं जो दिल पे वार करते हैं ‘फ़राज़’
वरना गैरों को क्या ख़बर की दिल की जगह कौन सी है.

Apne Hi Hote Hai Jo Dil Pe Waar Karte Hai ‘Faraz’,
Warna Gairon Ko Kya Khabar Ki Dil Ki Jagah Kaun Si Hai.
Ahmad Faraz shayari on love...

11

अब के हम बिछड़े तो शायद कभी ख़्वाबों में मिलें
जिस तरह सूखे हुए फूल किताबों में मिलें

Ab ke hum bichde to shayad kabhi khwabon mein milen
Jis tarah sookhe hue phool kitabon mein milen

12

इस तरह गौर से मत देख मेरा हाथ ऐ ‘फ़राज़’
इन लकीरों में हसरतों के सिवा कुछ भी नहीं.

Is Tarah Gaur Se Mat Dekh Mera Haath Ae ‘Faraz’
In Laqiron Mein Hasraton Ke Siwa Kuch Bhi Nahi.
Ahmad Faraz love shayari...

13

दिल को तेरी चाहत पे भरोसा भी बहुत है
और तुझ से बिछड़ जाने का डर भी नहीं जाता

Dil ko teri chahat pe bharosa bhi bahut hai
Aur tujh se bichad jaane ka dar bhi nahin jaata

14

किस किस को बताएँगे जुदाई का सबब हम
तू मुझ से खफा है तो ज़माने के लिए आ

Kis kis ko batayenge judai ka sabab hum
Tu mujh se khafa hai to zamane ke liye aa
Ahmad faraz shayari on love

15

तुम्हारी दुनिया में
हम जैसे हजारों हैं “फ़राज़”

हम ही पागल थे
जो तुम्हे पा के इतराने लगे.

Tumhari Duniya Me
Ham Jaise Hazaron Hai “Faraz”

Hum Hi Pagal The
Jo Tumhe Pa Ke Itraane Lage

16

हुआ है तुझ से बिछड़ने के बाद ये मालुम
की तू नहीं था तेरे साथ एक दुनिया थी

Hua hai tujh se bichadne ke baad ye maalum
Ki tu nahin tha tere saath ek duniya thi
Ahmad Faraz shayari on love - Hua hai tujh se bichadne ke baad ye maalum...

17

इस से पहले कि बेवफा हो जाएँ
क्यों न ए दोस्त हम जुदा हो जाएँ

Is se pehle ki bewafa ho jaayen
Kyon na ae dost hum juda ho jaayen

18

इस ज़िन्दगी में इतनी फ़राग़त किसे नसीब
इतना न याद आ कि तुझे भूल जाएँ हम

Is zindagi maiin itni faraghat kise naseeb
Itana na yaad aa ki tujhe bhool jaayein hum
Ahmad Faraz love shayari - Is zindagi main itni faraghat kise naseeb...

19

तुम तकल्लुफ़ को भी इखलास समझते हो ‘फ़राज़’
दोस्त होता नहीं हर हाथ मिलाने वाला

Tum takalluf ko bhi ikhlas samajhte ho ‘Faraz’
Dost hota nahi har haath milane wala

20

उस शख्स से बस इतना सा ताल्लुक़ है ‘फ़राज़’
वो परेशां हो तो हमें नींद नहीं आती.

Us Shakhs Se Bas Itna Sa Talluk Hai ‘Faraz’
Wo Pareshan Ho To Humein Neend Nahin Aati.
Admad Faraz shayari - Us shaqs se bas itna sa taaluq hai faraz...

21

ज़िन्दगी से यही गिला है मुझे
तू बहुत देर से मिला है मुझे

Zindagi se yahi gila hai mujhe
Tu bahut der se mila hai mujhe

22

वो शख्स जो कहता था
तू न मिला तो मर जाऊंगा “फ़राज़”

वो आज भी जिंदा है
यही बात किसी और से कहने के लिए.

Wo Shakhas Jo Kehta Tha
Tu Na Mila To Marr Jaunga “Faraz”

Wo Aaj Bhi Zinda Hai
Yahi Baat Kisi Aur Se Kehne Ke Liye.
Ahmad Faraz shayari on love - wo shaqs jo kehta tha tu na mila to mar jaunga faraz...

23

बच न सका ख़ुदा भी मुहब्बत के तकाज़ों से ‘फ़राज़’
एक महबूब की खातिर सारा जहाँ बना डाला.

Bach Na Saka Khuda Bhi Muhabbat Ke Takaazon Se ‘Faraz’
Ek Mahboob Ki Khatir Sara Jahan Bana Dala.

24

एक पल जो तुझे भूलने का सोचता हूँ ‘फ़राज़’
मेरी साँसें मेरी तकदीर से उलझ जाती हैं.

Ek Pal Jo Tujhe Bhoolne Ka Sochata Hun ‘Faraz’
Meri Saansein Meri Taqdeer Se Ulajh Jati Hain.
Ahmad Faraz love shayari - Ek pal jo tujhe bhoolne ka sochta hun faraz...

25

मोहब्बत के अंदाज़ जुदा होते हैं ‘फ़राज़’
किसी ने टूट के चाहा और कोई चाह के टूट गया.

Mohabbat Ke Andaaz Juda Hote Hain ‘Faraz’
Kisi Ne Toot Ke Chaaha Aur Koi Chaah Ke Toot Gaya.

Akbar Allahabadi Love Shayari

Syed Akbar Hussain (16 November 1846 – 15 February 1921), popularly known as Akbar Allahabadi, was an Indian Urdu poet in the genre of satire. Besides being a poet, he was professionally a session judge in Allahabad Highcourt.

He is well known for his humorous touch in poetry to themes of love and politics. Here are some love shayari by him…

26

इश्क़ नाज़ुक-मिज़ाज है बेहद
अक़्ल का बोझ उठा नहीं सकता

Ishq nazuk-mizaj hai behad
Aql ka bojh utha nahin sakta

27

होनी न चाहिए थी मोहब्बत मगर हुई
पड़ना न चाहिए था ग़ज़ब में मगर पड़े

Honi na chaahiye thi mohabbat magar hui
Padana na chaahiye tha gazab mein magar pade

28

हम आह भी करते हैं तो हो जाते हैं बदनाम
वो क़त्ल भी करते हैं तो चर्चा नहीं होता

Hum aah bhi karte hain to ho jaate hain badnam
Wo qatl bhi karte hain to charcha nahin hota
Akbar Allahabadi love shayari - Hum aah bhi karte hain to ho jaate hain badnaam...

29

मरना क़ुबूल है मगर उल्फ़त नहीं क़ुबूल
दिल तो न दूँगा आप को मैं जान लीजिए

Marna qubool hai magar ulfat nahin qubool
Dil toh naa dunga aap ko main jaan leejiye

30

मेरी ये बेचैनियाँ और उन का कहना नाज़ से
हँस के तुम से बोल तो लेते हैं और हम क्या करें…

Meri ye baichainiyan or un ka kehna naaz se
Hans ke tum se bol to lete hain aur hum kya karen…

31

हया से सर झुका लेना अदा से मुस्कुरा देना
हसीनों को भी कितना सहल है बिजली गिरा देना

Haya se sar jhuka lena ada se muskura dena
Haseeno ko bhi kitna sahal hai bijli gira dena

Bashir Badr’s Shayari On Love

Bashir Badr (born Syed Muhammad Bashir on 15 February 1935, in  Faizabad, India) is an Indian poet of Urdu. For his contribution towards literature is awarded by the prestigious Padma Shri award in 1999.

He is one of the most quoted shayar in Indian pop-culture and literature. Some lines on love taken from his work are quoted here…

32

हमने तो बाजार में दुनिया बेचीं और खरीदी है
हमको क्या मालुम किसी को कैसे चाहा जाता है

Humne toh bazaar mein duniya bechi aur kharidi hai
Humko kya maalum kisi ko kaise chaha jata hai
Bashir badr love shayari - humne to bazaar mein duniya bechi aur khareedi hai...

33

हसीं तो और हैं लेकिन कोई कहाँ तुझ सा
जो दिल जलाए बहुत फिर भी दिलरूबा ही लगे

Hasin to aur hain lekin koi kahan tujh sa
Jo dil jalae bahut phir bhi dilruba hi lage

34

मोहब्बत एक खुशबू है हमेशा साथ चलती है
कोई इंसान तन्हाई में भी तन्हा नहीं रहता

Mohabbat ek khushboo hai hamesha sath chalti hai
Koi insaan tanhai mein bhi tanha nahi rehta

35

हम दिल्ली भी हो आये हैं, लाहौर भी घूमे…
ऐ यार मगर तेरी गली तेरी गली है…

Hum dilli bhi ho aaye hain, lahore bhi ghume…
Ae yaar magar teri gali teri gali hai…

36

तुम मुझे छोड़ के जाओगे तो मर जाऊंगा
यूँ करो जाने से पहले मुझे पागल कर दो

Tum mujhe chhod ke jaoge to mar jaunga
Yun karo jaane se pehle mujhe paagal kar do
Bashir badr love shayari - tum mujhe chhod ke jaoge to mar jaunga...

37

कोई हाथ भी न मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से
ये नए मिज़ाज का शहर है ज़रा फासले से मिला करो

Koi haath bhi na milayega jo gale miloge tapaak se
Ye naye mizaj ka shehar hai zara fasle se mila karo

38

मेरे रास्तों में उजाला रहा
दिए उसकी आँखों में जलते रहे

Mere raaston mein ujala raha
Diye uski aankhon mein jalte rahe

39

अभी राह में कई मोड़ हैं
कोई आएगा कोई जाएगा…
तुम्हे जिसने दिल से भुला दिया
उसे भूलने की दुआ करो…

Abhi raah mein kai mod hain
Koi aaega koi jaaega…
tumhe jisne dil se bhula diya
Use bhulne ki dua karo…

40

कभी तो आसमान से चांद उतरे जाम हो जाए
तुम्हारे नाम की एक ख़ूबसूरत शाम हो जाए

Kabhi toh aasman se chand utre jaam ho jaaye
Tumhare naam ki ek khoobsurat shaam ho jaaye
bashir badr love shayari - kabhi to aasman se chand utre jaam ho jaaye

41

हर धड़कते पत्थर को लोग दिल समझते हैं
उम्रें बीत जाती हैं दिल को दिल बनाने मैं

Har dhadakte patthar ko log dil samajhte hain
Umrein beet jaati hain dil ko dil banane main

42

खुदा की इतनी बड़ी कायनात में मैंने बस एक शख्स को माँगा
मुझे वही ना मिला…

Khuda ki itni badi kaynaat mein maine bas ek shakhs ko manga
Mujhe wahi naa mila…

43

इतनी मिलती है मेरी ग़ज़लों से सूरत तेरी
लोग तुझको मेरा महबूब समझते होंगे

Itni milti hai meri gazalon se soorat teri
Log tujhko mera mehboob samajhte honge…

44

कुछ तो मजबूरियां रही होंगी
यूँ कोई बेवफ़ा नहीं होता

Kuch to majburiyan rahi hongi
Yun koi bewafa nahin hota
Bashir badr love shayari - kuch to majburiyan rahi hongi...

45

अगर तलाश करूं कोई मिल ही जायेगा
मगर तुम्हारी तरह कौन मुझको चाहेगा

Agar talash karun koi mil hi jayega
Magar tumhari tarah kon mujhko chaahega

46

उजाले अपनी यादों के हमारे साथ रहने दो
ना जाने किस गली में ज़िन्दगी की शाम हो जाये

Ujale apni yaadon ke humaare saath rehne do
Naa jaane kis gali main zindagi ki shaam ho jaye

47

न जी भर के देखा न कुछ बात की
बड़ी आरज़ू थी मुलाक़ात की

Na ji bhar ke dekha na kuch baat ki
Badi aarzoo the mulaqat ki

48

गुलाबों की तरह शबनम में अपना दिल भिगोते हैं
मुहब्बत करने वाले ख़ूबसूरत लोग होते हैं

Gulabon ki tarah shabnam me apna dil bhigote hain
Mohabbat karne wale khoobsurat log hote hain

49

उसे किसी की मुहब्बत का ऐतबार नहीं
उसे ज़माने ने शायद बहुत सताया है

Use kisi ki mohabbat ka aitbaar nahi
Use zamane ne shayad bahot sataya hai

Shayari By Faiz Ahmad Faiz On Love

Faiz Ahmad Faiz (13 February 1911 – 20 November 1984) was a Pakistani Urdu poet and author. He was regarded as one of the most celebrated poets and writers on Urdu literature in Pakistan. His poetry is expanded into the themes of politics, community, love, and beauty. We’ve picked some beautiful love shayari by him…

50

गर बाज़ी इश्क़ की बाज़ी है जो चाहो लगा दो डर कैसा
गर जीत गए तो क्या कहना हारे भी तो बाज़ी मात नहीं

Gar baazi ishq ki baazi hai jo chaho laga to dar kaisa
Gar jeet gaye to kya kehna haare bhi to baaji maat nahi
Faiz Ahmad Faiz love shayari - gar baazi ishq ki baazi hai jo chahe laga do darr kaisa...

51

उतरे थे कभी ‘फ़ैज़’ वो आईना-ए-दिल में
आलम है वही आज भी हैरानी-ए-दिल का

Utre the kabhi ‘Faiz’ wo aaina-e-dil mein
Aalam hai wahi aaj bhi hairani-e-dil ka

52

दोनों जहां तेरी मोहब्बत में हार के
वो जा रहा है कोई शब्-ऐ-ग़म गुज़ार के

Dono jahan teri mohabbat mein haar ke
Wo ja raha hai koi shab-e-gham guzar ke

53

और क्या देखने को बाक़ी है
आप से दिल लगा के देख लिया

Aur kya dekhne ko baaqi hai
Aap se dil laga ke dekh liya

54

कर रहा था गम-ऐ-जहाँ का हिसाब
आज तुम याद बे-हिसाब आए

Kar raha tha gum-e-jahan ka hisab
Aaj tum yaad be-hisab aae

55

वह बात सारे फ़साने मैं जिसका ज़िक्र न था,
वह बात उन को बोहोत नागवार गुजरी है…

Woh baat saare fasaane main jiska zikra na tha,
Woh baat un ko bohot naagawaar guzri hai…

56

कब ठहरेगा दर्द-ऐ-दिल कब रात बसर होगी
सुनते थे वो आएँगे सुनते थे सहर होगी

Kab thehrega dard-ae-dil kab raat basar hogi
Sunte the wo aayenge sunte the sahar hogi

57

कब तक दिल की ख़ैर मनाएँ
कब तक रह दिखलाओगे
कब तक चैन की मोहलत दोगे
कब तक याद न आओगे

Kab tak dil ki khair manayen
kab tak rah dikhlaoge
Kab tak chain ke mohlat doge
kab tak yaad naa aaoge

58

न जाने किस लिए उम्मीद-वार बैठा हूँ…
एक ऐसी राह पे जो तेरी राहगुज़र भी नहीं…

Na jaane kis liye ummeed-vaar baitha hun…
Ek aisi raah pe jo teri rahguzar bhi nahin…

59

दिल ना-उम्मीद तो नहीं नाकाम ही तो है
लम्बी है ग़म की शाम मगर शाम ही तो है

Dil na-ummeed to nahin naakam hi to hai
Lambi hai gum ki shaam magar shaam hi to hai
Faiz Ahmad Faiz love shayari - dil na-ummeed to nahi naakam hi to hai...

60

तुम्हारी याद के जब ज़ख़्म भरने लगते हैं
किसी बहाने तुम्हें याद करने लगते हैं

Tumhari yaad ke jab zakhm bharne lagte hain
kisi bahane tumhein yaad karne lagte hain

61

अब जो कोई पूछे भी तो उस से क्या शरह-ए-हालात करें
दिल ठहरे तो दर्द सुनाएँ दर्द थमे तो बात करें

Ab jo koi pooche bhi to us se kya sharah-e-haalat karein
Dil thehre to dard sunayein dard thame to baat karein

62

और भी दुःख हैं ज़माने में मोहब्बत के सिवा
राहतें और भी हैं वस्ल की राहत के सिवा

Aur bhi dukh hain zamane mein mohabbat ke sivaa
Rahatein aur bhi hain vasl ki rahat ke sivaa

Firaq Gorakhpuri’s Lines On Love

Raghupati Sahay (28 August 1896 – 3 March 1982), was one of the most noted contemporary Urdu poets from India. He is better known under his pen name Firaq Gorakhpuri. For his commendable work in literature, he was honored with many prestigious awards including Sahitya Akademi Award (1960), Padma Bhushan (1968), and Jnanpith Award (1969).

Some of the beautiful lines on love by Firaq are:

63

ना जाने अश्क़ से आँखों में क्यों हैं आये हुए
गुज़र गया ज़माना तुझे भुलाए हुए

Naa jane ashq se aankhon mein kyon hain aaye huye
Guzar gaya zamana tujhe bhulaye huye

64

तुम इसे शिक़वा समझ किस लिए शरमा गए,
मुद्दतों के बाद देखा था, तो आंसू आ गए…

Tum ise shiqwa samajh kis liye sharma gaye,
Muddaton ke baad dekha tha, to aansu aa gaye…
Firaq Gorakhpuri love shayari - Tum ise shiqwa samajh kis liye sharma gaye...

65

मुझ को मारा है हर इक दर्द ओ दवा से पहले
दी सज़ा इश्क़ ने हर जुर्म-ओ-ख़ता से पहले

Mujh ko mara hai har ik dard o dawa se pehle
Di saza ishq ne har jurm-o-khata se pehle

66

कोई आया न आएगा लेकिन
क्या करें गर ना इंतज़ार करें…

Koi aaya na aayega lekin
Kya karein gar naa intezaar karein…

67

रोने को तो ज़िन्दगी पड़ी है
कुछ तेरे सितम पे मुस्कुरा लें…

Rone ko to zindagi padi hai
Kuch tere sitam pe muskura lein…

68

एक मुद्दत से तेरी याद भी आई न हमें
और भूल गए हों तुझे ऐसा भी नहीं…

Ek muddat se teri yaad bhi aayi na humein
Aur bhool gaye hon tujhe aisa bhi nahin…
Firaq gorakhpuri love shayari - ek muddat se teri yaad bhi aayi na humein...

69

आई है कुछ न पूछ क़यामत कहाँ कहाँ
उफ़ ले गई है मुझ को मोहब्बत कहाँ कहाँ

Aai hai kuch naa pooch qayamat kaha kaha
Uff le gai hai mujh ko mohabbat kaha kaha

70

मैं हूँ दिल है तन्हाई है
तुम भी होते अच्छा होता

Main hun dil hai tanhai hai
Tum bhi hote accha hota

71

हज़ार बार ज़माना इधर से गुज़रा है
नयी नयी सी है कुछ तेरी राहगुज़र फिर भी

Hazaar baar zamaana idhar se guzra hai
Nayi nayi si hai kuch teri rahguzar phir bhi

72

तेरे आने की क्या उम्मीद मगर
कैसे कह दूँ कि इंतज़ार नहीं

Tere aane ki kya ummeed magar
Kaise keh doon ki intezaar nahin

73

बहुत दिनों में मोहब्बत को ये हुआ मालुम
जो तेरे हिज्र में गुज़री वो रात रात हुई

Bahut dino me mohabbat ko ye hua maalum
Jo tere hijr me guzri wo raat raat hui

74

ना कोई वादा ना कोई यक़ीन ना कोई उम्मीद
मगर हमें तो तेरा इंतज़ार करना था

Naa koi vaada naa koi yaqeen naa koi ummeed
Magar humein to tera intezaar karna tha

75

किसी का यूँ तो हुआ कौन उम्र भर फिर भी
ये हुस्न ओ इश्क़ तो धोका है सब मगर फिर भी

Kisi ka yun to hua kon umra bhar fir bhi
Ye husn o ishq to dhokha hai sab magar fir bhi

76

कोई समझे तो एक बात कहूं
इश्क़ तौफ़ीक़ है गुनाह नहीं

Koi samjhe to ek baat kahun
Ishq taufiq hai gunah nahin

77

तुम मुखातिब भी हो क़रीब भी हो
तुम को देखें कि तुम से बात करें

Tum mukhatib bhi ho qareeb bhi ho
Tum ko dekhen ki tum se baat karen

78

खो दिया तुम को तो हम पूछते फिरते हैं यही
जिस की तक़दीर बिगड़ जाए वो करता क्या है

Kho diya tum ko to hum poochte firte hain yahi
Jis ki taqdeer bigad jaaye wo karta kya hai

79

हम से क्या हो सका मोहब्बत मैं
खैर तुम ने तो बेवफाई की

Hum se kya ho saka mohabbat main
Khair tum ne to bewafai ki

Gulzar’s Best Lines On Love

Sampooran Singh Kalra (born 18 August 1934), better known professionally by his pen name Gulzar, is an Indian lyricist, poet, and author. He has written numerous lyrics and songs for the Indian film industry.

Gulzar has won multiple awards and honors for his contribution to Indian literature. Here are some heart touching lines by Gulzar…

80

किसी पर मर जाने से होती हैं मोहब्बत,
इश्क जिंदा लोगों के बस का नहीं

Kisi par mar jaane se hoti hai mohabbat,
Ishq zinda logon ke bas ka nahin…
Gulzar love shayari - Kisi par mar jaane se hoti hai mohabbat...

81

बहुत मुश्किल से करता हूँ, तेरी यादों का कारोबार,
मुनाफा कम है, पर गुज़ारा हो ही जाता है

Bohot Mushkil Se Karta Hun Teri Yaadon Ka Karobaar,
Munafa Kam Hai, Par Guzaara Ho Jata Hai…

82

सुनो…
जब कभी देख लुं तुमको
तो मुझे महसूस होता है कि
दुनिया खूबसूरत है

Suno…
Jab kabhi dekh lu tumko
To mujhe mehsoos hota hai ki
Duniya khoobsurat hai…

83

उन्हें ये जिद थी कि हम बुलाये
हमें ये उम्मीद थी कि वो पुकारे
हैं नाम होंठो पे अब भी लेकिन
आवाज में पड़ गयी दरारे

Unhe ye zid thi ki hum bulaye
hume ye ummeed thi ki wo pukare
Hain naam hothon pe ab bhi lekin
aawaz me pad gayi dararein

84

समेट लो इन नाजुक पलो को
ना जाने ये लम्हे हो ना हो
हो भी ये लम्हे क्या मालूम शामिल
उन पलो में हम हो ना हो

Samet lo in naazuk palo ko
na jane ye lamhe ho na ho
ho bhi ye lamhe kya maalum shamil
un palon me hum ho naa ho

85

दिल अगर हैं तो दर्द भी होंगा,
इसका शायद कोई हल नहीं हैं

Dil agar hai to dard bhi hoga,
Iska shayad koi hal nhi hai

86

कैसे करें हम ख़ुद को
तेरे प्यार के काबिल,
जब हम बदलते हैं,
तो तुम शर्ते बदल देते हो

Kaise karen hum khud ko
tere pyar ke kaabil,
Jab hum badalte hai
to tum shartein badal dete ho

87

तेरे जाने से तो कुछ बदला नहीं,
रात भी आयी और चाँद भी था, मगर नींद नहीं

Tere jaane se to kuch badla nahin,
Raat bhi aayi aur chand bhi tha, magar neend nahi

88

बहुत अंदर तक जला देती हैं,
वो शिकायते जो बया नहीं होती

Bahut andar tak jala deti hai
Wo shiqayatein jo bayan nahi hoti

89

शाम से आँख में नमी सी है
आज फिर आप की कमी सी है

Sham se aankh mein nami si hai
Aaj fir aap ki kami si hai

90

सुनो…ज़रा रास्ता तो बताना.
मोहब्बत के सफ़र से, वापसी है मेरी…

Suno…zara rasta to batana…
Mohabbat ke safar se wapasi hai meri…

91

कभी तो चौक के देखे वो हमारी तरफ़,
किसी की आँखों में हमको भी वो इंतजार दिखे

Kabhi to chonk ke dekhe wo humari taraf
Kisi ki aankhon mein humko bhi wo intezaar dikhe
Gulzar love shayari - Kabhi to chonk ke dekhe wo humari taraf...

92

आप के बाद हर घड़ी हम ने
आप के साथ ही गुज़ारी है

Aap ke baad har ghadi hum ne
Aap ke sath hi guzari hai

Jaun Elia’s Love Shayari

Jaun Elia (14 December 1931 – 8 November 2002), was born Syed Sibt-e-Ashgar Naqvi in Amroha, British India. He was a legendary Pakistani Urdu poet, and philosopher. Each of his lines touches directly to heart and will leave you yearning for more.

93

ये मुझे चैन क्यों नहीं पड़ता
एक ही शख्स था जहाँ में क्या???

Ye mujhe chain kyon nahi padta
Ek hi shaks tha jahan me kya???

94

हैं दलीलें तेरे खिलाफ मगर
सोचता हूँ तेरी हिमायत में

Hain daleelen tere khilaf magar
Sochta hun teri himayat mein
Jaun elia love shayari - Hain daleelein tere khilaf magar...

95

मेरा एक मशवरा है इल्तेज़ा नहीं
तू मेरे पास से इस वक़्त जा नहीं

Mera ek mashwara hai ilteza nahin
Tu mere paas se is waqt jaa nahin

96

कैसे कहें कि तुझ को भी हम से है वास्ता कोई
तू ने तो हम से आज तक कोई गिला नहीं किया

Kaise kahe ki tum ko bhi hum se hai wasta koi
Tu ne to hum se aaj tak koi gila nahi kiya

97

यारों कुछ तो बताओ उसकी क़यामत बांहों का
वो जो सिमटते होंगे इन में वो तो मर जाते होंगे

Yaaron kuch to batao uski kayamat baahon ka
Wo jo simatte honge inme wo to mar jaate honge

98

यह लोग पाँव नहीं ज़हन से अपाहिज हैं
उधर चलेंगे जिधर रेहनुमा चलता है…

Yeh log paanv nahi zehen se apaahiz hain
Udhar chalenge jidhar rehnuma chalta hai…

99

बहुत नज़दीक आती जा रही हो
बिछड़ने का इरादा कर लिया क्या?

Bahut nazdeek aati jaa rahi ho
Bichadne ka irada kar liya kya?

100

आप अब पूछने को आए हैं
दिल मेरी जान मर गया कब का

Aap ab poochne aaye hain
Dil meri jaan mar gaya kab ka

101

मेरे कुछ सवाल है
जो सिर्फ क़यामत के रोज़ पूछूँगा तुमसे
क्यूंकि उससे पहले तुम्हारी और मेरी बात हो सके
इस लायक नहीं हो तुम.

Mere kuch sawal hai
jo sirf kayamat ke roz puchunga tumse
kyunki usse pehle tumhari aur meri baat ho sake
iss layak nahi ho tum.
Jaun elia love shayari - Mere kuch sawal hai...

102

शायद मुझे किसी से मोहब्बत नहीं हुई
पर यकीन सबको दिलाता रहा हूं मैं

Shayad mujhe kisi se mohabbat nahi hui
Par yaqeen sabko dilata raha hun me

103

उस गली ने यह सुन के सब्र किया
जाने वाले यहाँ के थे ही नहीं

Us gali ne yeh sun ke sabra kiya
Jane wale yahan ke the hi nahin
Jaun Elia love shayari - Us gali ne yah sun ke sabra kiya...

104

अब मेरी कोई ज़िंदगी ही नहीं
अब भी तुम मेरी ज़िंदगी हो क्या?

Ab meri koi zindagi hi nahi
Ab bhi tum meri zindagi ho kya?

Javed Akhtar’s Shayari On Love

Javed Akhtar (born 17 January 1945) is a popular Indian activist, poet, lyricist, and screenwriter best known for his work in the Indian film industry. He is a recipient of many prestigious awards. We’ve picked few heart-touching love shayari by Javed Akhtar.

105

छोड़ कर जिस को गए थे आप कोई और था
अब मैं कोई और हूँ वापस तो आ कर देखिए

Chhod kar jis ko gaye the aap koi aur tha
Ab main koi aur hoon waapas to aa kar dekhiye
Javed akhtar love shayari - chhod kar jis ko gaye the aap koi aur tha...

106

हर तरफ़ शोर उसी नाम का है दुनिया में
कोई उस को जो पुकारे तो पुकारे कैसे

Har taraf shor usi naam ka hai duniya mein
Koi us ko jo pukaare to pukaare kaise

107

इक मोहब्बत की ये तस्वीर है दो रंगों में
शौक़ सब मेरा है और सारी हया उस की है

Ik mohabbat kee ye tasveer hai do rangon mein
shauq sab mera hai aur saari haya us kee hai

108

Naa jaane kab se mujhe intezaar hai us ka,
Jo keh gaya tha mera intezaar mat karna.

ना जाने कब से मुझे इंतज़ार है उस का,
जो कह गया था मेरा इंतज़ार मत करना

109

उस की आँखों में भी काजल फैल रहा है
मैं भी मुड़ के जाते जाते देख रहा हूँ

Us ki aankhon mein bhi kaajal phail raha hai
Main bhi mud ke jaate jaate dekh raha hoon

Some Lines By Kaifi Azmi On Love

Athar Hussein Rizvi ( January 1919 – 10 May 2002), better known as Kaifi Azmi was an Indian Urdu poet. He is credited for his efforts in bringing  Urdu literature to Indian motion pictures. Some of his beautiful Shayari on love are here…

110

अब जिस तरफ़ से चाहे गुज़र जाए कारवाँ
वीरानियाँ तो सब मेरे दिल में उतर गईं

Ab jis taraf se chaahe gujar jaaye kaarwan
Veeraniyan to sab mere dil mein utar gai
Kaifi Azmi love shayari- ab jis taraf se chahe guzar jaye karwaan...

111

झुकी झुकी सी नज़र बे-करार है की नहीं
दबा दबा सा सही दिल में प्यार है की नहीं

Jhuki jhuki si nazar be-karar hai ki nahin
Daba daba sa sahi dil mein pyar hai ki nahin

112

मुद्दत के बाद उस ने जो की लुत्फ़ की निगाह
जी ख़ुश तो हो गया मगर आँसू निकल पड़े

Muddat ke baad us ne jo ki lutf ki nigaah
Jee khush to ho gaya magar aansoo nikal pade

113

तू अपने दिल की जवाँ धड़कनों को गिन के बता
मेरी तरह तेरा दिल बे-क़रार है कि नहीं

Tu apne dil ki jawan dhadkano ko gin ke bata
Meri tarah tera dil be-karar hai ki nahin

114

वक्त ने किया क्या हंसी सितम
तुम रहे न तुम, हम रहे न हम

Waqt ne kiya kya haseen sitam
Tum rahe na tum, ham rahe na ham

115

बस इक झिजक है यही हाल-ए-दिल सुनाने में
कि तेरा ज़िक्र भी आएगा इस फ़साने में

Bas ik jhijak hai yahi hal-e-dil sunane mein
Ki tera zikra bhi aaega is fasane mein

116

दिल की नाज़ुक रगें टूटती हैं
याद इतना भी कोई न आए

Dil ki naazuk rage tootti hain
Yaad itna bhi koi naa aaye

117

इसी में इश्क़ की क़िस्मत बदल भी सकती थी
जो वक़्त बीत गया मुझ को आज़माने में

Isi mein ishq ki kismat badal bhi sakti thi
Jo waqt beet gaya mujh ko aazmaane mein

118

जो वो मेरे न रहे मैं भी कब किसी का रहा
बिछड़ के उनसे सलीक़ा न ज़िन्दगी का रहा

Jo wo mere na rahe me bhi kab kisi ka raha
Bichad ke unse saleeqa na zindagi ka raha

119

आज फिर टूटेंगी तेरे घर नाज़ुक खिड़कियाँ
आज फिर देखा गया दीवाना तेरे शहर में

Aaj fir tootengi tere ghar naazuk khidkiyan
Aaj fir dekha gaya deewana tere shehar me

Majrooh Sultanpuri’s Love Shayari

Asrar ul Hassan Khan (1 October 1919 − 24 May 2000), better known as Majrooh Sultanpuri is known for his work as an Urdu poet, and as a lyricist and songwriter in the Indian film industry.

We’ve quoted here some lines written by Majrooh Sultanpuri on love…

120

पहले सौ बार इधर और उधर देखा है,
तब कहीं डर के तुम्हें एक बार देखा है.

Pehale Sau Baar Idhar Aur Udhar Dekha Hai
Tab Kahin Dar Ke Tumhe Ek Baar Dekha Hai.
Majrooh Sultanpuri love shayari - Pehle sau baar idhar aur udhar dekha hai...

121

मिली जब उनसे नज़र, बस रहा था एक जहां,
हटी निगाह तो चारों तरफ थे वीराने.

Mili Jab Unse Nazar, Bas Raha Tha Ek Jahan,
Hati nigaah to chaaro taraf the veerane.

122

क्या ग़लत है जो मैं दीवाना हुआ, सच कहना,
मेरे महबूब को तुम ने भी अगर देखा है.

Kya Galat Hai Jo Main Deewana Hua, Sach Kehana..
Mere Mahboob Ko Tum Ne Bhi Agar Dekha Hai.

123

आज इस एक नज़र पर मुझे मर जाने दो
उस ने लोगों बड़ी मुश्किल से इधर देखा है

Aaj is ek nazar par mujhe mar jaane do
Us ne logon badi mushkil se idhar dekha hai

124

अब सोचते हैं लाएंगे तुझ सा कहाँ से हम,
उठने को उठ तो आए तीरे आस्ताँ से हम.

Ab Sochte Hain Layenge Tujh Sa Kahan Se Ham
Uthane Ko Uth To Aaye Teere Aastan Se Ham.

125

तकदीर का शिकवा बेमानी,
जीना ही तुझे मंजूर नहीं.

आप अपना मुकद्दर बन न सके,
इतना तो कोई मजबूर नहीं.

Taqdir Ka Sikwa Bemani,
jeena Hi Tujhe Manjoor Nahin

Aap Apna Muqaddar ban Na Sake,
Itna To Koi Majboor Nahin.

126

बहाने और भी होते जो ज़िंदगी के लिए
हम एक बार तेरी आरज़ू भी खो देते

Bahane aur bhi hote jo zindagi ke liye
Hum ek bar teri aarzoo bhi kho dete

127

कोई हम-दम न रहा कोई सहारा न रहा
हम किसी के न रहे कोई हमारा न रहा

Koi humdum na raha koi sahara na raha
Hum kisi ke na rahe koi humara na raha

Shayari By Mir Taqi Mir On Love

Mir Taqi Mir (February 1723 – 21 September 1810), was an Urdu poet of the 18th century in Mughal India. He is considered as one of the pioneers who gave shape to the Urdu language itself.

Some of his famous couplets on love are:

128

इश्क़ में जी को सब्र ओ ताब कहाँ
उस से आँखें लड़ीं तो ख़्वाब कहाँ

Ishq mein jee ko sabra o taab kahan
Us se aankhen ladi to khwab kahan
Mir Taqi Mir love shayari - Ishq mein ji ko sabra-o-taab kaha...

129

दिल मुझे उस गली में ले जा कर
और भी ख़ाक में मिला लाया

Dil mujhe us gali me le ja kar
Aur bhi khak me mila laya

130

नाज़ुकी उस के लब की क्या कहिये
पंखुड़ी इक गुलाब की सी है

Nazuki us ke lab ki kya kahiye
Pankhudi ik gulab ki si hai

131

आग थे इब्तिदा-ए-इश्क़ में हम
अब जो हैं ख़ाक इंतिहा है ये

Aag the ibtida-e-ishq mein hum
Ab jo hain khak intehan hai ye

132

इब्तिदा-ए-इश्क है रोता है क्या
आगे आगे देखिये होता है क्या

Ibtidaa-e-ishq hai rota hai kya
Aage aage dekhiye hota hai kya

Mirza Ghalib’s Heart Touching Lines On Love

Ghalib (27 December 1797 – 15 February 1869), was one of the most popular Urdu poets during the Mughal empire in India. He was born Mirza Asadullah Baig Khan, and used his pen-names Ghalib and Asad in his poetic career.

Ghalib used to write in both Urdu and Persian languages and he still remains popular all around the world for his beautiful work. Here are some love shayari by Mirza Ghalib…

133

हम तो फनाह हो गए उसकी आँखें देख कर “ग़ालिब”,
ना जाने वह आइना कैसे देखते होंगे…

Hum to fanaah ho gaye uski aankhein dekh kar “Ghalib”,
Naa jane woh aaina kaise dekhte honge…
Mirza Ghalib Love shayari - hum to fanaah ho gaye uski aankhein dekh kar ghalib...

134

मोहब्बत में नहीं है फर्क जीने और मरने का,
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफिर पे दम निकले.

Mohabbat mein nahin hai farq jeene aur marne ka,
Usi ko dekh kar jeete hain jis kaafir pe dam nikle.

135

इश्क़ ने “ग़ालिब” निकम्मा कर दिया
वरना हम भी आदमी थे काम के

Ishq ne “Ghalib” nikamma kar diya
warna hum bhi aadmi the kaam ke

136

हम को मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन,
दिल को खुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख्याल अच्छा है.

Hum ko maalum hai jannat ki haqiqat lekin,
Dil ko khush rakhne ko ‘Ghalib’ ye khayal accha hai.

137

हम ने मोहब्बत के नशे में आ कर उसे खुदा बना डाला,
होश तब आया जब उसने कहा के ख़ुदा किसी एक का नहीं होता!

Hum ne mohabbat ke nashe mein aa kar use khuda bana dala,
Hosh tab aaya jab usne kaha ke khuda kisi ek ka nahi hota!

138

मुझ से कहती है तेरे साथ रहूंगी सदा “ग़ालिब”
बोहोत प्यार करती है मुझसे उदासी मेरी.

Mujh se kehti hai tere saath rahungi sada “Ghalib”
Bohot pyaar karti hai mujhse udaasi meri.

139

मुलाकातें जरूरी हैं अगर रिश्ते बचाने हैं
लगा कर भूल जाने से तो पौधे भी सूख जाते हैं

Mulakatein zaruri hain agar rishte bachane hain
Laga kar bhool jane se toh paudhe bhi sukh jaate hain

140

दिल-ऐ-नादान तुझे हुआ क्या है,
आखिर इस दर्द की दवा क्या है

Dil-e-naadan tujhe hua kya hai,
Aakhir iss dard ki dawa kya hai

141

दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिये
दिल ही जब दर्द हो तोह क्या कीजिये

Dard jab dil me ho to dawa keejiye
Dil hi jab dard ho toh kya keejiye

142

दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई,
दोनों को इक अदा में रजामंद कर गई.

Dil se teri nigaah jigar tak utar gai,
Dono ko ik adaa mein razamand kar gai.

Shayari By Nida Fazli On Love

Muqtida Hasan Nida Fazli (12 October 1938 – 8 February 2016), also known as Nida Fazli, was an Indian Hindi and Urdu poet, lyricist, and writer. Nida Fazli was a poet of various moods and had written some of the most melodious songs and ghazals in Bollywood.

Here are a couple of lines on love written by Nida Fazli, that we’ve picked to list here…

143

बात बहुत मामूली सी थी
उलझ गई तकरारों में
एक ज़रा सी ज़िद ने आखिर
दोनों को बर्बाद किया

Baat bahot maamuli si thi
ulajh gai takraron mein
Ek zara si zid ne aakhir
Dono ko barbaad kiya
Nida Fazli Love shayari - baat bahut maamuli si thi...

144

उस को रुखसत तो किया था मुझे मालूम न था
सारा घर ले गया घर छोड़ के जाने वाला

Us ko rukhsat to kiya tha mujhe maalum na tha
Saara ghar le gaya ghar chhod ke jaane wala

145

दिल में ना हो जुर्रत तो मोहब्बत नहीं मिलती,
खैरात में इतनी बड़ी दौलत नहीं मिलती…

Dil me naa ho jurrat to mohabbat nahin milti,
Khairat mein itni badi daulat nahin milti…

146

हम लबों से कह न पाये उन से हाल-इ-दिल कभी
और वो समझे नहीं ये ख़ामोशी क्या चीज़ है

Hum labon se keh na paaye un se haal-e-dil kabhi
Aur wo samjhe nahin ye khamoshi kya cheez hai

147

बेनाम सा ये दर्द ठहर क्यों नहीं जाता
जो बीत गया है वो गुज़र क्यों नहीं जाता

Benaam sa ye dard thahar kyun nahin jaata
Jo beet gaya hai wo guzar kyun nahin jaata

148

दुश्मनी लाख सही ख़त्म न कीजिये रिश्ता
दिल मिले या ना मिले हाथ मिलाते रहिये

Dushmani lakh sahi khatm na keejiye rishta
Dil mile ya naa mile haath milate rahiye

149

कभी किसी को मुकम्मल जहां नहीं मिलता
कहीं ज़मीन कहीं आसमां नहीं मिलता

Kabhi kisi ko mukammal jahaan nahin milta
Kahin zameen kahin asman nahin milta

150

होश वालों को खबर क्या बेखुदी क्या चीज़ है
ईश्क कीजे फिर समझिए ज़िन्दगी क्या चीज़ है

Hosh walon ko khabar kya bekhudi kya cheez hai
Ishq keeje phir samajhiye zindagi kya cheez hai

Rahat Indori’s Love Shayari

Rahat Indori (born 1 January 1950), is an Indian Urdu poet and lyricist better known for his work in Bollywood and literature.

Few of the most popular and beautiful love shayari by Rahat Indori:

151

आते जाते हैं कई रंग मेरे चेहरे पर,
लोग लेते हैं मजा ज़िक्र तुम्हारा कर के।

Aate Jate Hain Kai Rang Mere Chehre Par,
Log Lete Hain Mazaa Zikr Tumhara Kar Ke.
Rahat Indori Love shayari - Aate jaate hain kai rang mere chehre par...

152

उस की याद आई है साँसो ज़रा आहिस्ता चलो
धड़कनों से भी इबादत में ख़लल पड़ता है

Us ki yaad aai hai saanso zara aahista chalo
Dhadkano se bhi ibadat me khalal padta hai

153

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते,
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते,
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है,
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते।

Haath Khali Hain Tere Shehar Se Jate Jate,
Jaan Hoti To Meri Jaan Lutate Jate,
Ab To Har Haath Ka Patthar Humein Pehchanta Hai,
Umr Gujri Hai Tere Shahar Mein Aate Jate.

154

तेरी हर बात ​मोहब्बत में गँवारा करके​,
​दिल के बाज़ार में बैठे हैं खसारा करके​,
​मैं वो दरिया हूँ कि हर बूंद भंवर है जिसकी​,​​
​तुमने अच्छा ही किया मुझसे किनारा करके।

Teri Har Baat Mohabbat Mein Ganwara Karke,
Dil Ke Bajaar Mein Baithe Hain Khasaara Karke,
Main Woh Dariya Hun Ki Har Boond Bhanwar Hai Jiski,
Tumne Achha Hi Kiya Mujhse Kinaara Karke.

155

तुफानो से आँख मिलाओ, सैलाबों पे वार करो
मल्लाहो का चक्कर छोड़ो, तैर कर दरिया पार करो
फूलो की दुकाने खोलो, खुशबु का व्यापर करो
इश्क खता हैं, तो ये खता एक बार नहीं, सौ बार करो

Toofano se aankh milao, sailabon pe vaar karo
Mallahon ka chakkar chodo, tair kar dariya paar karo
Phoolo ki dukane kholo, khushboo ka vyapaar karo
Ishq khata hai, to ye khata ek baar nahi, sau baar karo

Love Shayari By Sahir Ludhianvi

Abdul Hayee (8 March 1921 – 25 October 1980), popularly known as Sahir Ludhianvi was a prominent Indian poet and songwriter. Ludhianvi was known as the “people’s poet” as his writings reflected their loves, sufferings, angst and joy. Some beautiful lines on love by Sahir Ludhianvi are compiled and listed here…

156

गर जिंदगी में मिल गए फिर इत्तफाक से
पूछेंगे अपना हाल तेरी बेबसी से हम

Gar zindgi mein mil gaye phir ittefaak se
Poochenge apna haal teri bebasi se hum
Sahir Ludhianvi love shayari

157

कौन कहता है मुहब्बत की ज़ुबाँ होती है
ये हक़ीक़त तो निगाहों से बयाँ होती है

Kaun kehta hai muhabbat ki jubaan hoti hai
Ye haqiqat to nigaahon se bayaan hoti hai

158

यूँ ही दिल ने चाहा था रोना रुलाना
तेरी याद तो बन गई इक बहाना

Yun hi dil ne chaaha tha rona rulaana
Teri yaad to ban gai ik bahaana

159

तुम मुझे भूल भी जाओ तो यह हक है तुमको
मेरी बात और है मैंने तो मुहब्बत की है

Tum mujhe bhool bhi jao to yeh haq hai tumko
Meri baat aur hai maine to muhabbat ki hai

160

दिल के मुआमले में नतीजे की फ़िक्र क्या
आगे है इश्क़ जुर्म-ओ-सजा के मकाम से

Dil ke muaamale mein nateeje ki fiqr kya
Aage hai ishq jurm-o-saza ke maqaam se

161

वैसे तो तुम्ही ने मुझे बर्बाद किया है
इल्ज़ाम किसी और के सर जाए तो अच्छा

Waise to tumhi ne mujhe barbaad kiya hai
Ilzaam kisi aur ke sar jaaye to achha

162

उन्हें अपना नहीं सकता मगर इतना भी क्या कम है
कि कुछ मुद्दत हसीं ख्वाबों में खोकर जी लिया मैंने

Unhein apna nahin sakta magar itna bhi kya kam hai
Ki kuchh muddat haseen khwaabon mein khokar jee liya maine

163

लो आज हमने तोड़ दिया रिश्ता-ए-उम्मीद
लो अब कभी गिला न करेंगे किसी से हम

Lo aaj humne tod diya rishta-e-ummeed
Lo ab kabhi gila na karenge kisi se hum

164

तुम मेरे लिए कोई इल्जाम न ढूँढ़ो
चाहा था तुम्हे, यही इल्जाम बहुत है

Tum mere liye koi ilzaam na dhoondho
Chaaha tha tumhein, yahi ilzaam bahut hai

165

यह माना किसी काबिल नहीं हूँ इन निगाहों में
बुरा क्या है अगर इस दिल की वीरानी मुझे दे दो

Yeh mana kisi qaabil nahin hun in nigaahon mein
Bura kya hai agar is dil ki veerani mujhe de do

166

तंग आ चुके हैं कश्मकश-ऐ-ज़िन्दगी से हम
ठुकरा न दें जहाँ को कहीं बे-दिली से हम

Tang aa chuke hain kashmakash-e-zindagi se hum
Thukra na den jahan ko kahin be-dili se hum

167

अपनी तबाहियों का मुझे कोई गम नहीं
तुम ने किसी के साथ मोहब्बत निभा तो दी

Apni tabahiyo ka mujhe koi gum nahin
Tum ne kisi ke saath mohabbat nibha to di

168

आप दौलत के तराज़ू में दिलों को तौलें
हम मोहब्बत से मोहब्बत का सिला देते हैं

Aap daulat ke tarazu me dilo ko taulen
Hum mohabbat se mohabbat ka sila dete hain

169

याद मिटती है न मंजर कोई मिट सकता है
दूर जाकर भी तुम अपने को यहीं पाओगी

Yaad mitati hai na manzar koi mit sakta hai
Door jaakar bhi tum apne aap ko yahin paaogi

170

ग़म और ख़ुशी में फ़र्क़ न महसूस हो जहाँ
मैं दिल को उस मक़ाम पे लाता चला गया

Gum aur khushi me farq na mehsoos ho jahan
Mein dil ko us makaam pe laata chala gaya

171

वो अफ़्साना जिसे अंजाम तक लाना न हो मुमकिन
उसे इक ख़ूब-सूरत मोड़ दे कर छोड़ना अच्छा

Wo afsana jise anjaam tak lana na ho mumkin
Use ik khoobsurat mod de kar chhodna accha

Wasim Barelvi’s Shayari On Love

Zahid Hussain (born 8 February 1940), known professionally by his pen name Wasim Barelvi, is a prominent Indian Urdu poet. He is best known for his ghazals, of which many sung by Jagjit Singh. Wasim Barelvi has written numerous aesthetic lines on love. Some of them are quoted here…

172

मुझे पढ़ता कोई तो कैसे पढ़ता
मेरे चेहरे पे तुम लिखे हुए थे

Mujhe padhta koi to kaise padhta
Mere chehre pe tum likhe huye the
Wasim Barelvi love shayari

173

यह सोच कर कोई अहदे-वफ़ा करो हमसे,
हम एक वादे पे उम्रें गुज़ार देते हैं.

Yah soch kar koi ahde-wafa karo humse,
Hum ek vaade pe umra guzar dete hain.

174

सभी रिश्ते गुलाबों की तरह ख़ुशबू नहीं देते
कुछ ऐसे भी तो होते हैं जो काँटे छोड़ जाते हैं

Sabhi rishtey gulabon ki tarah khushboo nahi dete
Kuch aise bhi to hote hain jo kaante chhod jaate hain

175

ग़म और होता सुन के गर आते न वो ‘वसीम’
अच्छा है मेरे हाल की उन को ख़बर नहीं..

Gum aur hota sun ke gar aate na wo ‘Wasim’
Acha hai mere haal ki un ko khabar nahin…

176

अपने चेहरे से जो ज़ाहिर है छुपाएँ कैसे?
तेरी मर्ज़ी के मुताबिक़ नज़र आएँ कैसे?

Apne chehre se jo jahir hai chupayen kaise?
Teri marzi ke mutabik nazar aayen kaise?

177

तुझे पाने की कोशिश में कुछ इतना खो चुका हूँ मैं
कि तू मिल भी अगर जाए तो अब मिलने का ग़म होगा

Tujhe pane ki koshish me kuch itna kho chuka hu mein
Ki tu mil bhi agar jaye to ab milne ka gum hoga

178

धूप के एक ही मौसम ने जिन्हें तोड़ दिया,
इतने नाज़ुक भी ये रिश्ते न बनाये होते.

Dhoop ke ek hi mausam ne jinhe tod diya,
Itne naazuk bhi ye rishte na banaye hote.

179

मोहब्बत के घरों के कच्चे-पन को ये कहाँ समझें
इन आँखों को तो बस आता है बरसातें बड़ी करना

Mohabbat ke gharo ke kacche-pan ko ye kahan samjhen
In aankhon ko to bas aata hai barsaate badi karna

180

वो झूट बोल रहा था बड़े सलीक़े से,
मैं ऐतबार न करता तो और क्या करता

Wo jhooth bol raha tha bade saleeke se,
Main aitbaar na karta to aur kya karta.

181

तुम्हारा प्यार तो सांसों में सांस लेता है
जो होता नशा तो इक दिन उतर नहीं जाता

Tumhara pyar to sanso me saans leta hai
Jo hota nasha to ek din utar nahi jata

182

किसी से कोई भी उम्मीद रखना छोड़ कर देखो
तो ये रिश्ता निभाना किस क़दर आसान हो जाए

Kisi se koi bhi ummeed rakhna chhod kar dekho
To ye rishta nibhana kis kadar aasan ho jaye

183

तुम मेरी तरफ़ देखना छोड़ो तो बताऊँ,
हर शख़्स तुम्हारी ही तरफ़ देख रहा है…

Tum meri taraf dekhna chodo to bataun
Har shaqs tumhari hi taraf dekh raha hai…

Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *