500+ Love Shayari To Express Your True Emotions.

by:

For HerFor HimLoveShayari

Sad Love Shayari

Unfortunately love not always add sweet tastes to our life. Sometimes we get disappointment in love. This section is dedicated to those people who are disappointed in their love life…

351

अकेले आये थे अकेले ही जायेंगे…
हाँ कुछ झूठे ज़रूर मिले थे ज़िन्दगी में…जो कहते थे…
“मरते दम तक साथ निभाएंगे”

Akele aaye the akele hi jayenge…
Haan kuch jhoothe zarur mile the zindagi me…jo kehte the…
“Marte dum tak sath nibhayenge”
Sad Love shayari - akele aaye the akele hi jayenge...

352

कभी गौर कर तू अपनी गलतियों पर
तेरे अपने फैसलों पर तेरी नज़रें झुक जाएँगी

Kabhi gaur kar tu apni galtiyo par
Tere apne faisalon par teri nazarein jhuk jayengi

353

हमें याद आ आ कर इतना बेचैन ना करो,
एक ये ही सितम काफी है कि साथ नहीं हो तुम ।

Hamein Yaad Aa Aa Kar Itna Be-Chain Na Karo,
Ek Ye Hi Sitam Kafi Hai Ki Sath Nahi Ho Tum.

354

♥••♥ फासले इतने बढ़ाने की ज़रुरत क्या थी ??? ♥••♥
♥••♥ तुझे मुझसे रूठ जाने की ज़रुरत क्या थी ??? ♥••♥
♥••♥ अब जो मुझसे रूठ के उदास रहते हो ♥••♥
♥••♥ अपना हाथ मुझसे छुड़ाने की ज़रुरत क्या थी ??? ♥••♥
♥••♥ दुनिया ने कब किसी के गम को अपना गम समझा है ??? ♥••♥
♥••♥ तुझे अपना गम दुनिया को दिखाने की ज़रुरत क्या थी ??? ♥••♥
♥••♥ मैं आज तक इस बात को समझ नहीं पाया ♥••♥
♥••♥ जब मैं साथ तुम्हारे था, तो तुम्हे ज़माने की ज़रुरत क्या थी ??? ♥••♥

♥••♥ Faasley itne badhane ki Zaroorat kya thi??? ♥••♥
♥••♥ Tujhe mujhse rooth jane ki zaroorat kya thi??? ♥••♥
♥••♥ Ab jo mujhse rooth k udaas rehte ho ♥••♥
♥••♥ Apna haath Mujhse chudhane ki zaroorat kyaa thi??? ♥••♥
♥••♥ Duniya ne kab kisi ke gam ko apna gam samajha hai??? ♥••♥
♥••♥ Tujhe apna gam duniya ko dikhane ki zaroorat kya thi??? ♥••♥
♥••♥ Main aaj tak is baat ko samajh nahi paaya ♥••♥
♥••♥ Jab main saath tumhare tha, to tumhe zamaane ki zaroorat kya thi??? ♥••♥

355

काश के तुम भी समझ पाते,
रिश्ते ख्याल रखने के लिए बनाए जाते हैं…
इस्तेमाल करने के लिए नहीं.

Kaash ke tum bhi samajh paate,
Rishtey khayal rakhne ke liye banaye jaate hain…
istemaal karne ke liye nahi.
Sad Love shayari - Kaash ke tum bhi samajh paate

356

पलट कर भी नहीं देखी तेरी ये बेरुखी हम ने,
भुला देंगे तुझे ऐसा के तुम भी याद रखोगे ।

Palat Kar Bhi Nahi Dekhi Teri Ye Berukhi Hum Ne,
Bhula Denge Tujhe Aisa Ke Tum Bhi Yaad Rakhoge….

357

कहते थे जो दिल क्या चीज़ है जान भी लुटा देंगे,
आज कहते है छोड़ दो हाथ मेरा, इज़्ज़त का सवाल है…!!!

Kehte The Jo Dil Kya Cheez Hai, Jaan Bhi Luta Denge,
Aaj Kehte Hain Chor Do Hath Mera, Izzat Ka Sawaal Hai… !!!
Sad Love shayari - Kehte the jo dil kya cheez hai...

358

उनके जाने के बाद सब कुछ ठीक है…!!!
बस पहले जहां दिल हुआ करता था वहां अब दर्द रहता है…!!!

Unke jaane ke baad sab kuch theek hai…!!
bas pehle jaha dil hua karta tha wahan ab dard rehta hai…!!!!!

359

” मुझे अब फ़र्क़ नहीं पड़ता मौसम बीत जाने से …..!!! “
” उदासी मेरी फ़ितरत है, इसे मौसम से क्या मतलब …..??? ”

” Mujhe Ab Farq Nahi Padta Mausam Beet Jane Se…..!!! “
” Udaasi Meri Fitrat Hai, Ise Mausam Se Kya Matlab…..??? “

360

कौन जाने कौन होगा इस साल हमसफ़र उनका…
कि वो तो हमसफ़र बदलते हैं “लिबाज़ों” की तरह।

Kon jane kon hoga is saal humsafar unka…
Ki wo to humsafar badalte hai “LIBAAZON” ki tarah….

361

तेरे वादे , मेरे दावे…!!!
हो गये बारी बारी मिट्टी…!!!

Tere waade, Mere daawe…!!!
Ho gaye bari bari Mitti…!!!

362

एक तमन्ना सी है इस मायूस दिल की…
काश…आज आंसुओं के साथ हर ख्वाब भी बह जाये …

Ek tamanna si hai iss maayoos dil ki…
Kashh…Aaj aansuon ke sath har khwaab bhi beh jaye…

363

कुछ बातों के मतलब हैं, और कुछ मतलब की बातें,
जब से फर्क समझा, जिंदगी आसान हो गई।

Kuch Baaton Ke Matlab Hain, Aur Kuch Matlab Ki Baatein,
Jab Se Farq Samjhe, Zindagi Aasan Ho Gayi.
Sad Love shayari - Kuch baaton ke matlab hain...

364

फिर से निकलेंगे तलाश-ऐ-ज़िन्दगी में…..
दुआ करना इस बार कोई बेवफ़ा ना मिले….

Phir se niklenge talash-e-zindagi mein….
Dua karna is bar koi bewafa na mile….

365

साबित नहीं करूँगा कितनी मोहब्बत है तुमसे…
तुम्हे अगर महसूस नहीं, तो तुम मेरे लायक भी नहीं…

Saabit nahi karunga kitni mohabbat hai tumse…
Tumhe agar mehsoos nahi, to tum mere laayak bhi nahi…

366

उदासी तुम पे बीतेगी तो तुम भी जान जाओगे,
कोई नज़र-अंदाज़ जब करता है तो कितना दर्द होता है।

Udaasi Tum Pe Beetegi To Tum Bhi Jaan Jaoge..
Koi Nazar-Andazz Jab Karta Hai To Kitna Dard Hota Hai…

367

रोओगे तुम भी एक दिन…
और बोलोगे, एक पागल भी था जो सिर्फ मेरे लिए ही पागल था…

Rooge tum bhi ek din…
Or bologe, ek paagal bhi tha jo sirf mere liye hi paagal tha…
Sad Love shayari - Rooge tum bhi ek din...

368

किस मुँह से सुलह करू,
झगड़ा भी तो नहीं हुआ है…

Kis munh se sulah karun,
Jhagda bhi toh nahi hua hai…

369

टूटकर कभी ना चाहना किसी को,
जान कहने वाले अक्सर बेजान कर देते हैं…

Tootkar kabhi na chahna kisi ko,
Jaan kehne wale aksar bejaan kar dete hain…

370

तुम्हारे हाथ लगे हैं तो जो करो सो करो
वरना तुम जैसे तो हम सौ ग़ुलाम रखते थे

Tumhare Haath Lage Hain To Jo Karo So Karo
Warna Tum Jaise To Hum Sau Ghulam Rakhte They

371

हर किसी ने अपने तरीके से बेशुमार इस्तेमाल किया,
और हम समझते रहे कि लोग हमें पसंद करते हैं!!!

Har kisi ne apne tariqe se beshumaar istemaal kiya,
Aur hum samajhte rahe ki log hume pasand karte hain!!!
sad love shayari - Har kisi ne apne tariqe se beshumar istemaal kiya...

372

अब क्या किसी को चाहें….कि हमको तो इन दिनों
खुद अपने आप से भी मोहब्बत नहीं रही

Ab kya kisi ko chahein…ki humko to in dino
khud apne aap se bhi mohabbat nahi rahi

373

कह तो इस दर्द से…तुम्हारी तरह बन जाए…
ना मुझे याद करे…ना मेरे करीब आये…

Keh to is dard se…tumhari tarah ban jaaye…
Naa mujhe yaad kare…Naa mere kareeb aaye…

374

तेरी एक ना ने मेरी ज़िन्दगी तबाह कर दी,
और अब मुझसे ये पूछती हो कि मै कैसा हूँ ।

Teri Ek Naa Ne Meri Zindagi Tabaah Kar di ..
Or Ab Mujhse Ye Poochti Ho Ki Me Kaisa Hun. . !
sad love shayari - teri ek naa ne meri zindagi tabaah kar di...

375

बेवफाई का दुःख नहीं था मुझे,
बस कुछ लोग ऐसे थे जिनसे उम्मीदें बोहोत थीं।

Bewafai Ka Dukh Nhi Tha Mujhe…
Bus Kuch Log Aise The Jinse Umeede’n Bohot Thi.

376

कदर वो होती है जो किसी की मौजूदगी में हो ,
जो किसी के जाने के बाद हो उसे पछतावा कहते है ,

Kadar wo hoti hai jo kisi ki maujudgi mein ho
Jo kisi ke jaane ke baad ho use pachtava kehte hain…

377

मोहब्बत अब नहीं रही ज़माने में,
लोग अब इश्क़ नहीं मज़ाक किया करते हैं..

Mohabbat ab nahi rahi zamaane me,
Log ab ishq nahi mazaak kiya karte hain..

378

इफत भरी ज़िन्दगी में अक्सर ऐसा होता है ….,
आंखें हस्ती हैं और दिल रोता है ….,
जिन्हे हम अपनी मंज़िल समझते हैं …..,
उनका हमराही कोई और ही होता है …..♥

lfat Bhari Zindagi Me Aksar Aisa Hota Hai….,
Aankhe Hasti Hai Or Dil Rota Hai….,
Jinhe Hum Apni Manzil Samajhte Hain…..,
Unka Humraahi Koi Or Hi Hota Hai……,♥

379

मैंने हीरे की तरह उसको तराशना चाहा था,
मगर वो जात का पत्थर था सो पत्थर ही निकला।

Maine Heere ki Tarah usko Tarashna chaha tha…
Magar wo Zaat ka Patthar tha So patthar hi Nikla…!!!!
sad love shayari - maine heere ki tarah usko tarashna chaha tha...

380

मुझे परखने में उसने पूरी जिंदगी लगा दी,
काश, कुछ वक्त समझने में लगाया होता।

Mujhe parakhne mein usne poori zindagi laga di,
Kaash, Kuch waqt samajhne mein lagaya hota .

381

इतने बुरे भी नहीं थे हम,
जितना बुरा आपने किया हमारे साथ…

Itne bure bhi nahin the hum,
Jitan bura aapne kiya humare sath…

382

तुझसे इतना प्यार क्यों किया…???
कभी कभी ये सोच के खुद से नफ़रत हो जाती है।

Tujhse itna pyar kyon kiya…???
Kabhi kabhi ye soch ke khud se nafrat ho jati hai.

383

खुद को कितना भी रोको मोहब्बत बढ़ती जाती है…
तुमसे लड़ने के बाद तुम्हारी और भी याद आती है…

Khud ko kitna bhi roku mohabbat badhti jati hai…
Tumse ladne ke baad tumhari aur bhi yaad aati hai…

384

जो शख्स तुम्हारी निगाहों से तुम्हारी ज़रूरत को समझ नहीं सकता ,
उस से कुछ मांग कर खुद को शर्मिंदा ना करो ….

Jo Shakhs Tumhari Nigahon Se Tumhari Zarurat Ko Samajh Nahi Sakta…
Us se Kuch Mang Kar Khud Ko Sharminda Na Karo…

385

बड़ी हसीन थी ज़िंदगी जब …
ना किसी से मोहब्बत ना किसी से नफ़रत थी….
ज़िन्दगी में एक ऐसा मोड़ आया कि….
मोहब्बत एक से हुई, और नफ़रत दुनिया से ….

Badi haseen thi zindagi jab…
Na kisi se mohabbat na kisi se nafrat thi…
Zindagi mein ek aisa mod aaya ki…
Mohabbat ek se hui, aur nafrat duniya se…

386

जो अपना है वो कहीं जायेगा नहीं,
और….
जो चला गया वो अपना था ही नहीं।

Jo apna hai wo kahin jayega nahin,
Or…
Jo chala gaya wo apna tha hi nahin.
Sad love shayari - Jo apna hai wo kahin jayega nahin...

387

लोग कहते हैं मुस्कान है होंठो पे मेरे ,
कौन जाने के तस्सवर में हँसाया किसने …!! 🙁

Log Kehte Hain Muskaan Hai Honto Pe Mere,
Kon Jaane K Tassawar Main Hansaaya Kis Ne..!! 🙁

388

दिल से खेलना तो हमे भी आता है
लेकिन जिस खैल मे खिलौना टुट जाए वो खेल हमे पसंद नही

Dil Se Khelna To Hame Bhi Aata Hai
Lekin Jis Khel mein Khilona Toot jaye Wo Khel Hamein Pasand Nahi

389

उन परिंदों को क़ैद रखना मेरी फितरत नहीं…
दिल के पिंजरे में रहकर जो दूसरों के साथ उड़ने का शौक़ रखते हों …

Un parindon ko kaid rakhna meri fitrat nahin…
Dil ke pinjare me rehkar jo dusro ke sath udne ka shouk rakhte hon….
Sad love shayari - Un parindon ko kaid rakhna meri fitrat nahin...

390

बड़ी शोक से उतरे थे हम समंदर-ऐ-इश्क़ में,
एक लहर ने ऐसा डुबाया के अब तक किनारा ना मिला ।

Bade shoq se utre the hum samandar-e-ishq mein,
Ek lehar ne aisa dubaya ke ab tak kinaara na mila.

391

याद तो तुम्हे आएगी मेरी….
जब तुम वही सब, किसी और के साथ दोहराओगे….

Yaad to tumhe aayegi meri…
Jab tum WAHI SAB, kisi aur ke sath dohraoge…

392

नफ़रत मत करना हमसे, हमें बुरा लगेगा,
बस प्यार से कह देना, तेरी अब ज़रूरत नहीं….

Nafrat mat karna humse, humein bura lagega,
Bas pyar se keh dena, teri ab jarurat nahi…

393

हम मशरुफ़ थे जिनके इंतेज़ार में,
वो किसी और से दिल लगा बैठे ।

Hum mashruf the jinke intezaar mein,
Wo kisi aur se dil laga baithe.
Sad love shayari - Hum mashruf the jinke intezaar mein...

394

हिसाब बराबर का हुआ चलो कोई गम नहीं…
हमारे पास तुम नहीं, तुम्हारे पास हम नहीं…!!!

Hisaab barabar ka hua chalo koi gum nahin…
Hamare paas tum nahi, tumhare paas hum nahi…!!!

395

फिर वोही ख़्वाब से टूटे हैं मेरी आँखों में ,
फिर वोही दर्द की तल्ख़ी है मेरी बातों में ….!

Phir Wohi Khwaab Se Toote Hai Meri Aankhon Mein,
Phir Wohi Dard Ki Talkhi Hai Meri Baaton Mein………..!

396

तेरे साथ जीने की चाह…???
वो तो अब मर चुकी…

Tere saath jeene ki chaah…???
Woh to ab mar chuki…

397

अक्सर उन्ही लोगो की कहानियां अधूरी हुआ करती हैं,
मोहब्बतें जिनकी सच्ची हुआ करती हैं…

Aksar unhi logo ki kahaniya adhoori hua karti hain,
Mohabbatein jinki sacchi hua karti hain…

398

ना निभते हम भी “वफ़ा-इ-किरदार”,
अगर मालूम होता के दौर “दग़ा-ऐ-मोहब्बत” का है…

Naa nibhate hum bhi “Wafa-e-qirdaar”,
Agar maloom hota ke daur “Daga-ae-mohabbat” ka hai…

399

आदत नहीं हमें बेवजह रोने की…
कभी अपनों ने रुलाया, कभी गैरों से चोटें खाई.

Aadat nahin humein bewajah rone ki…
Kabhi apno ne rulaya, kabhi gairon se chotein khayi.
sad love shayari - Aadad nahi humen bewajah rone ki...

400

इस मतलबी दुनिया में किसी से दिल न लगाना
बिन बुलाये आने वाले अक़्सर बिन बताये चले जाते हैं

Is matlabi duniya mein kisi se dil na lagana
Bin bulaye aane wale aksar bin bataye chale jaate hain

Prev Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *