Most Popular Mirza Ghalib Shayari

by:

LoveShayari

इश्क ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया,
वरना हम भी आदमी थे काम के..

Ishq Ne Galib Nikamma Kar Diya,
Warna Ham Bhi Aadami The Kaam Ke..
हमको मालूम है जन्नत की हक़ीक़त लेकिन,
दिल को खुश रखने को ‘ग़ालिब’ ये ख़याल अच्छा है

Humko maalum hai jannat ki haqeeqat lekin,
Dil ko khush rakhne ko “Ghalib” ye khayal acha hai
जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तजू क्या है

Jala hai jism jahan dil bhi jal gaya hoga
Kuredte ho jo ab raakh justju kya hai
मोहब्बत में नहीं है फ़र्क़ जीने और मरने का।
उसी को देख कर जीते हैं जिस काफ़िर पे दम निकले।।

Mohabbat mein nahin hai farz jeene aur marne ka
Usi ko dekh kar jeete hai jis kaafir pe dam nikle
आह को चाहिए इक उम्र असर होते तक।
कौन जीता है तिरी ज़ुल्फ़ के सर होते तक।।

Aah ko chahiye ek umra asar hote tak
kon jeeta hai teri zulf ke sar hote tak
हर एक बात पे कहते हो तुम कि तू क्या है
तुम्हीं कहो कि ये अंदाज़-ए-गुफ़्तगू क्या है

Har ek baat pe kehte ho tum ki tu kya hai
Tumhi kaho ki ye andaz-e-guftagu kya hai
इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना।
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना।।

Ishrat-e-katra hai dariya mein fanna ho jaana
Dard ka had se gujarna hai dawa ho jaana
काबा किस मुँह से जाओगे ‘ग़ालिब’।
शर्म तुम को मगर नहीं आती।।

Kaaba kis munh se jaaoge “Ghalib”
Sharm tum ko magar nahin aati
दिल से तेरी निगाह जिगर तक उतर गई।
दोनों को इक अदा में रज़ामंद कर गई।।

Dil se teri nigah jigar tak utar gayi
Dono ko ek ada mein razamand kar gayi
यही है आज़माना तो सताना किसको कहते हैं,
अदू के हो लिए जब तुम तो मेरा इम्तहां क्यों हो

Yahi hai aajmana to satana kisko kehte hain,
adu ke ho liye jab tum to mera imtehan kyo ho

Prev Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *