Sad Shayari

by:

LoveShayari

जिन राहो पर चले थे साथ कभी,
देख ज़रा वो आज वीरान पड़ी हैं,
गुजरते थे साथ कभी जहा से,
देख वो राहें सुनसान पड़ी हैं,
देख रही हैं ये राहें भी शायद तेरा ही रास्ता,
और तू जान कर भी अनजान खड़ी है।

Jin raahon par chale the sath kabhi,
Dekh zara wo aaj veeran padi hain,
Gujarte the sath kabhi jaha se,
Dekh wo rahein sunsaan padi hain,
Dekh rahi hain ye rahein bhi shayad tera hi raasta,
Aur tu jaan kar bhi anjaan khadi hai….

Shayari for him
हुस्न ना मांग नसीब मांग ऐ दोस्त ,
हुस्न वाले तो अक्सर नसीब वालो के गुलाम हुआ करते हैं !!!

Husn na maang Naseeb maang Ae Dost,
Husn waale toh aksar Naseeb walo ke gulam hua karte hai!!!
अगर जो तकलीफ हो हमें याद करने में तुम्हें…
एक पल ना लगाना…..भूल जाना हमें……

Agar jo takleef ho hame yaad karne me tumhe…
Ek pal naa lagana….bhool jana hame….
मेरी यादों से अगर बच निकलो तो वादा है मेरा तुम से,
मैं खुद दुनिया से कह दूंगा, कमी मेरी “वफ़ा” में थी।

Meri yaadon se agar bach niklo to waada hai mera tum se,
Main khud Duniya se keh doonga, kami meri “WAFA” me thi.

2 lines shayari
उदासी तुम पे बीतेगी तो तुम भी जान जाओगे,
कोई नज़र-अंदाज़ जब करता है तो कितना दर्द होता है।

Udaasi Tum Pe Beetegi To Tum Bhi Jaan Jaoge..
Koi Nazar-Andazz Jab Karta Hai To Kitna Dard Hota Hai…
इंतज़ार करूँ मैं और कितना उन के आने का,
कि चले गये हैं वो बस कुछ कहे बिना,
नहीं मांगता हूँ मैं साथ हर पल का उनसे,
की बस चार बातें ही वो अगर मुझसे कर लें।

Intezar karun mein aur kitna un ke aane ka,
Ke chale gaye hain woh bas kuch kahe bina,
Nahi mangta hun main sath har pal ka unse,
Ke bas char batein hi woh agar mujhse kar lein.

Due love
तेरी “चाहत” तो “मुक़द्दर” है…. मिले ना मिले…..
“राहत” “ज़रूर” मिल जाती है तुझे अपना “सोच” कर….

Teri “CHAAHAT” To “MUQADDAR” Hai… Mile Naa Mile….
“RAAHAT” “ZAROOR” Mil Jati Hai Tujhe Apna “SOCH” Kar….

Love shayari
♥••♥ फासले इतने बढ़ाने की ज़रुरत क्या थी ??? ♥••♥
♥••♥ तुझे मुझसे रूठ जाने की ज़रुरत क्या थी ??? ♥••♥
♥••♥ अब जो मुझसे रूठ के उदास रहते हो ♥••♥
♥••♥ अपना हाथ मुझसे छुड़ाने की ज़रुरत क्या थी ??? ♥••♥
♥••♥ दुनिया ने कब किसी के गम को अपना गम समझा है ??? ♥••♥
♥••♥ तुझे अपना गम दुनिया को दिखाने की ज़रुरत क्या थी ??? ♥••♥
♥••♥ मैं आज तक इस बात को समझ नहीं पाया ♥••♥
♥••♥ जब मैं साथ तुम्हारे था, तो तुम्हे ज़माने की ज़रुरत क्या थी ??? ♥••♥

♥••♥ Faasley itne badhane ki Zaroorat kya thi??? ♥••♥
♥••♥ Tujhe mujhse rooth jane ki zaroorat kya thi??? ♥••♥
♥••♥ Ab jo mujhse rooth k udaas rehte ho ♥••♥
♥••♥ Apna haath Mujhse chudhane ki zaroorat kyaa thi??? ♥••♥
♥••♥ Duniya ne kab kisi ke gam ko apna gam samajha hai??? ♥••♥
♥••♥ Tujhe apna gam duniya ko dikhane ki zaroorat kya thi??? ♥••♥
♥••♥ Main aaj tak is baat ko samajh nahi paaya ♥••♥
♥••♥ Jab main saath tumhare tha, to tumhe zamaane ki zaroorat kya thi??? ♥••♥

Love Shayari For Him
” मुझे अब फ़र्क़ नहीं पड़ता मौसम बीत जाने से …..!!! “
” उदासी मेरी फ़ितरत है, इसे मौसम से क्या मतलब …..??? ”

” Mujhe Ab Farq Nahi Padta Mausam Beet Jane Se…..!!! “
” Udaasi Meri Fitrat Hai, Ise Mausam Se Kya Matlab…..??? “

sad shayari for him

Previous Next

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *